प्रेम मंगल की कविता - नारी

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

नारी

प्रेरणादायिनी, सह्रदया, कोमलता की प्रतीक हो तुम

तेजस्‍विनी, महिमामयी, कर्तव्‍यनिष्‍ठावान हो तुम,

सर्वरुपिणी, विश्‍वेश्‍वरी, अखिलेश्‍वरी भी हो तुम,

दीनों का दुःख हरने वाली, मदर टेरेसा हो तुम ।

 

राष्‍ट्र निर्माता,शासन चालक,राष्‍ट्रपति औ प्रधानमंत्री भी हो तुम,

अन्‍वेषणकर्ता,व्‍यवसायी औ समन्‍दर जाकर घ्‍वज को फहराने वाली,

एवरेस्‍ट चोटी चढने वाली,मंगलग्रह तक जाने वाली भी हो तुम,

मानवसंसाधन, विश्‍वविद्यालय औ संस्‍थायें चलाने वाली भी हो तुम

फोटोग्राफी ,करने वाली मीडिया कर्मी ऊर्जा स्‍त्रोत भी हो तुम

प्रेम, क्रोध औ पथ प्रदर्शक, सब रूपों में दिखने वाली हो तुम ।

 

प्रथम रूप में बेटी बनकर प्‍यार सभी का पाती हो तुम

द्वितीय रूप में बहना बनकर सच्‍चा प्‍यार लुटाती हो तुम,

तृतीय रूप में पत्‍नि बनकर धर-संसार चलाती हो तुम ,

चतुर्थ रूप मे मां बनकर सबको गले लगाती हो तुम ।

 

कौन क्षेत्र वंचित है तुमसे कहां नहीं पहुंच पाई हो तुम

गरिमा बनकर अपनी मर्यादा में रहकर सबसे आगे बढ़ने वाली हो तुम

दृढ़ निश्‍चय अटूट तुम्‍हारा कभी न धोखा खाने वाली हो तुम

दुआ प्रेम की सबसे यह है नित नये स्‍त्रोतों से ऊॅचाइयों को छुओ तुम

 

--

प्रेम मंगल

कार्यालय अघीक्षक

स्‍वामी विवेकानन्‍द इंजीनियरिंग कॉलेज

इन्‍दौर म...․प्र․

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "प्रेम मंगल की कविता - नारी"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.