एस. के. पाण्डेय के दोहे

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

दोहे(११)


जग कहता देखा सुना जग में दुख सब ठोर  
यसकेपी केहि न छुअत बात बहै सब ओर ।।

सुख खोजन को जग चला सुख नहि हाट बिकात ।
यसकेपी परहित किए बिनु माँगे मिलि जात ।।

जनमि-जनमि दर-दर फिरे हुआ न सुख परभात ।
यसकेपी दुख की रजनि परहित रवि से नसात ।।

यसकेपी जग जानता भला किए भल होत ।
तदपि चला संसार चढ़ि पर अनहित के पोत ।।

परहित हित यह तन मिला हुआ नहीं जो भाय ।
यसकेपी सच जानिए जनम अकारथ जाय ।।

परहित जो कर सो तरे यसकेपी सच बात ।
साधु संत अरु वेद मत तदपि न काहु सुहात ।।


परहित से संसार है देखो आप बिचारि ।
यसकेपी रवि-शशि अगिन धरा गगन रितु धारि ।।

पवन मेघ गिरि तरु सरी परहित लगि सुख पाय  ।
यसकेपी इनके बिना यह संसार नसाय  ।।

परहित कर जग सो सुखी यहि सम धर्म न आहि ।
यसकेपी करि देखिए सब अवरेब नसाहिं

भला गैर को कीजिए भला किये भल होय ।
दूजे को अनभल तके सुखी रहै न कोय ।।

यसकेपी देखे बढ़त करत पाप आचार ।
मन मलान मत कीजिए तजिए नहीं बिचार ।।

पाप निरत सुख जानिए पूरब करम प्रधान ।
यसकेपी ताके मिटत दिन नहि जात समान ।।

सकल करम को फल मिलै अटल नियम लो जान ।
आज नहीं तो कल सही पर नहि मिटै निसान ।।

यसकेपी परहित करो जग जीवन सुख मूल ।
परपीड़ा को जानिए साच कहौं सम सूल ।।
---------
डॉ. एस. के. पाण्डेय,
समशापुर (उ.प्र.) ।

ब्लॉग: श्रीराम प्रभु कृपा: मानो या न मानो
URL1: http://sites.google.com/site/skpvinyavali/
                  ******** 

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "एस. के. पाण्डेय के दोहे"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.