गुरुवार, 29 नवंबर 2012

सुरेन्‍द्र कुमार पटेल की लघुकथा - होनी

होनी

‘बाबूजी ,कुछ रुपयों की मदद कर दो । बहू को सात माह का गर्भ है । कसाई पीलिया उसके प्राण लेना चाहता है ।' मंगल ने अपने रइर्स रिश्‍तेदार से याचना की ।

‘तुम्‍हारा बेटा कुछ इंतजाम नहीं किया ? ' रिश्‍तेदार ने सवाल किया ।

‘इंतजाम में ही परदेश गया है । कुछ रुपए भेजा भी था । उसे क्‍या मालूम था ये आफत आ जाएगी ।'

‘तो उसके भेजे रुपए कहां चट कर दिए । '

‘एक पाई नहीं उजाड़ा बाबूजी ।सब बहू के दवा -दारू में लग गए ।'

‘मुझसे हजार रुपए से अघिक की मदद न होगी। मेरे भी दिन इस समय अच्‍छे नहीं चल रहे हैं ।'

‘लेकिन मैं आपके पास बड़ी उम्‍मीद लेकर आया था । पाई -पाई चुका दूंगा बाबूजी । फिर मेरे जान-पहचान , नात रिश्‍तेदारों में आप -सा सबल कोइर् और नहीं है ।'

रइर्स रिश्‍तेदार ने पांच-पांच सौ रुपए के दो नोट थमाए और चुपचाप अपने दूसरे कामों में लग गया ।यह उसका मौन उत्‍तर था जिसे मंगल ने भी समझ लिया था ।

अगले दो दिन बाद मंगल के घर दिवंगत के नाम पर इकटठी हुई साड़ियों में उसकी दी साड़ी सबसे मंहगी थी ।उसे मंगल को सौंपते हुए उस रईस रिश्‍तेदार ने मंगल को सीने से लगा लिया और कहा , ‘मंगल , होनी को कौन रोक सकता है ?'

-0-

सुरेन्‍द्र कुमार पटेल

वार्ड क्रमांक -4,

ब्‍योहारी जिला - शहडोल म0प्र0

484774

ईमेल surendrasanju.02@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------