शनिवार, 24 नवंबर 2012

राजीव आनंद की कविताएँ - नफ़ा-नुक़सान

दीपावली दिल से मनाया


दीपावली कुछ इस तरह हमने मनाया
कुछ अंधेरे आंगनों में रौशनी फैलाया
कुछ अंधेरे घरों में दीप जलाया
बच्‍चों को कुछ फूलझड़ियां थमाया
बूढ़ों को अपने गले से लगाया
बच्‍चों औ' बूढ़ों के संग मिठाईयां खाया
दीपावली मनाने में आत्‍मिक सुख पाया
इस बार दीपावली हमने दिल से मनाया

ठीक है बेटा फिर मत आना


ठीक है बेटा
मत आना लौटकर तुम अपने घर
जहां तुम्‍हारी मूर्ख माँ की
आँखें पथरा गयी है
राह तकते-तकते
सून भी नहीं सकती
कहता हूँ बेटा आने से मना करता है
फिर भी आस लगायी
राहों को तकती है
जैसे तकती राहें तुम तक पहुंचती हों
अब कौन समझाए तुम्‍हारी माँ को
बेटे का भी अपना घर-परिवार है
परिवार में अब कहाँ है
हमारी जगह
नहीं समझ पाती है तुम्‍हारी
पुरानी ख्‍यालातों वाली माँ
सुनती नहीं है सिर्फ कहती है
नजर नहीं आते हमारे आँसू
अब कौन समझाए उसे बेटा
आँखों से टपके आँसू
नहीं भीगा सकते
तुम तक पहुंचने वाली राहों को
इस बार और शायद
आखिरी बार
लौट आओ बेटा
भेंट हो जाएगी
फिर आने की जरूरत
तुम्‍हें नहीं पड़ेगी
हम ले रहे है साथ खाने में
धीमी जहर
वक्‍त लगता है खत्‍म करने में
जहर तो है पर है धीमा
अनुमानत तुमसे यह मुलाकात
आखिरी ही हो
ठीक है बेटा
फिर मत आना !

नफा-नुकसान


सोते है आप डनलप पर
जमीन पर सोते है हम
सपने जो देखे है आपने
कहां है उनसे मेरे सपने कम
  सोते-सोते हो गए टेढ़े
  डनलप पर मेरूदंड़
  नफा हुआ सोने के जमीन पर
  आगए सम पर शरीर के अंग-अंग
चार सदस्‍यों के लिए भी आपके
है आलीशान बंगलों कम
एक कमरे के झोपड़ी में हम
दस लोग सो जाते है संग-संग
   फेंक देते है खाना आप जितना रोज
   जूठा-बासी और समझ कर बोझ
   एक भाग भी उसका अगर मिल जाए
   मना लेगा मेरा परिवार उससे भोज

परिवार


दाम्‍पत्‍य में सब कुछ
साझा है
सुख आधा है तो
दुख भी आधा है
इतना समझ जाने पर
पारिवारिक जीवन
बिल्‍कुल सीधा-साधा है

भ्रष्‍टाचार खत्‍म हो जावेगा
भ्रष्‍टाचार को उजागर करने
का यह मौजूदा दौर
धरना औ नारेबाजी का
यह रोज-रोज का शोर
जब थम जावेगा
तो क्‍या भ्रष्‍टाचार
खत्‍म हो जावेगा ?

मध्‍यवर्गीय लोग
इनकी बस इतनी सी कहानी है
न चादर कभी लंबी कर पाए
न पैरों को सिकोड़ पाए
जीवन इसी खींचातानी में बीत जाए


राजीव आनंद

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------