मनोज 'आजिज़' की दीवाली विशेष रचना

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

...तो ईद दिवाली
                 -- मनोज 'आजिज़'

फासलों की कमी हो तो ईद दिवाली
दिल सब्ज़ रहे तो हर दिन होली


करम खुदा का यहाँ त्योहारों की लड़ी
खुशियों से भरने को दामन झोली


रौशन हो हर दिल मोहब्बत की रौशनी से
तो शायद कायम हो चैन ओ खुशहाली


क्या हो गर हर वक़्त अरमाँ पले
याद रहे शजर को कभी छांटता माली


चल, चलें दिलों का जाल बुनें
नयी  रौशनी इजात करें इस दिवाली

 
आदित्यापुर
जमशेदपुर

mkp4ujsr@gmail.com

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

3 टिप्पणियाँ "मनोज 'आजिज़' की दीवाली विशेष रचना"


  1. फासलों की कमी हो तो ईद दिवाली
    दिल सब्ज़ रहे तो हर दिन होली
    bhut hi sunder.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.