शशांक मिश्र भारती के दीपावली पर तीन बालगीत

दीवाली



हम सब तुमका भेद मिटाने
आपसी कटुता भाव भगाने,
पथ-पथ प्रीत दीप सजाने
फिर आ गई है दीवाली।
सदा सत्‍य पर चलने  को
कभी   नहीं झगड़ने  को,
मिलकर आपस में रहने को
फिर  आ गई है  दीवाली।
मानवता का पाठ  पढ़ाने
ज्ञान भाव का दीप सजाने
अज्ञान व अन्‍धकार भगाने
फिर आ गई है  दीवाली।

दीपावली

हम सबको बतलाए कैसे
यह कितनी हमको प्‍यारी हैं,
आते हैं सभी पर्व एक दिन
यह सबसे लगती न्‍यारी है।
घर-घर प्रकाश फैलाकर
अंधकार को दूर भगाती है,
झूठ पे सच की विजय दिखा
सत्‍पथ पर आगे बढ़ाती है।
हर घर सुन्‍दर दीप सँजाने
प्रत्‍येक वर्ष यह आती है,
झिल मिल- झिल मिल कर
हम सबको यह भाती है॥


दीपों का त्‍यौहार

दीपों का फिर पर्व है आया
खुशियां प्‍यार अपूर्व है लाया,
असत्‌ पे सत की जीत बताता
बच्‍चों - बड़ों सभी को भाया
शाम को सजे  हर घर द्वार
अंधेरा  भगे  प्रकाश अपार
लक्ष्‍मी-गणेश का पूजन कराए
दीपावली  दीपों का त्‍यौहार॥


 
          
              
27.10.2012
हिन्‍दीसदन बड़ागांव शाहजहांपुर -242401 उ.प्र.

-----------

-----------

0 टिप्पणी "शशांक मिश्र भारती के दीपावली पर तीन बालगीत"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.