गुरुवार, 15 नवंबर 2012

देवेन्द्र पाठक महरूम की ग़ज़ल - प्यार से हमने जिसको भी अपना किया

प्यार से हमने जिसको भी अपना किया.

एक दिन उसने ही हमसे धोखा किया.

 

दर्द की तंग सुरंगोँ का अंधा सफर

ताउमर हमने तय तनहा तनहा किया.

 

जब ख़ुदा से नहीँ ख़ुद भी बावस्ता

तुम वास्ता उसका दे हमसे धोखा किया.

 

पैरोँ मेँ बेबसी के घुँघरू पहन ;

दर-ब-दर हसरतोँ ने है मुज़रा किया.

 

रुख बदलते हवाओँ के देखकर ;

रुख बदल हमने 'महरूम' अच्छा किया .

3 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------