गुरुवार, 27 दिसंबर 2012

शंकर लाल की कविता - देश एक बार फिर से शर्मसार है

image

देश एक बार फिर से शर्मसार है

देश एक बार फिर से शर्मसार है

दिल्ली की सड़कों पर

हो रहे बलात्कार है

सारे पुलिसिया इंतजामात बेकार है

संसद भी लाचार है

हर तरफ दरिन्दगी और अत्याचार है

माताओं के राज में बहनों की इज्जत तार तार है

इस पर भी खाना खा रही सरकार है

लगता है इस देश में

मानवता मरणासार है

देश एक बार फिर से शर्मसार है

कानून बना है गुलाम यहाँ

जन-जन रावनावतार है

और किसी से आशा ना कर

बन रण चंडी तेरी इज्जत

अब तू ही तारणहार है

देश एक बार फिर से शर्मसार है

--

शर्म भी शर्मसार है

अब तो शर्म भी शर्मसार है

आप की बेशर्मी पर

घर की इज्जत तार-तार हुई

दरिंदगी की हद पार हुई

फिर भी क्यों मौन छाया है तुम्हारी मुंडी पर ?

तुम कब गुलामी की बेडियां तोड़ोगे ?

कब अपना मुख तुम खोलोगे ?

क्या तुम्हें इंतजार है

और अस्मित बिखरे सड़कों पर

अब तो शर्म भी शर्मसार है

आप की बेशर्मी पर |

--

शंकर लाल, इंदौर, मध्यप्रदेश

1 blogger-facebook:

  1. bhut hi sundar kavita rhi ..
    aur is smaj me itne anaitik kary ho rhe hai..jiski koi seema nhi hai ..delhi ki is ghtna pure yuva varg ko jaga diya hai..aur ye ang ab sant hone wali nhi hai..

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------