देवी नागरानी की लघुकथा - आदेश

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

clip_image001

51. उदेश्य और आदेश (लघुकथा)

पिता के गुज़र जाने की खबर सुनकर बेटा विदेश से भारत आया, और विद्धि अनुसार पिता के अंतिम दाह-संस्कार संपूर्णता से अर्जित किए। पंद्रह दिन के बाद विदेश लौटते वक़्त उसने उसने माँ के पाँव छूटे हुए विदा ली, यह कहते हुए कि वह पिता की पुण्य-तिथि के लिए साल के बाद लौट आएगा और तब तक वह मास मच्छी नहीं खाएगा।

समय बीता, ग्यारह महीने होने को आए। फोन पर बात कराते हुए एक दिन माँ ने कहा-“बेटा अब मेरी भी उम्र ढल रही है, जाने कब जीवन कि आख़री शाम ......!”

“माँ ऐसा तो बिलकुल मत कहो।“ बेटे ने बीच में बात काटते हुए कहा। “यह तो मुझपर ज़ुल्म होगा। अभी तो पिता को एक वर्ष पूरा होने को है। मैं जैसे तैसे घास फूस पर गुज़ारा कर रहा हूँ। तुम तो अब कुछ साल रुक जाओ।“

देवी नगरानी पता: ९-डी॰ कॉर्नर व्यू सोसाइटी, १५/ ३३ रोड, बांद्रा , मुंबई ४०००५० फ़ोन:

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "देवी नागरानी की लघुकथा - आदेश"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.