शुक्रवार, 28 दिसंबर 2012

प्रभुदयाल श्रीवास्तव की बाल कविताएँ

श्रम करने पर रुपये मिलते


                                  घर में रुपये नहीं हैं पापा,
                                 चलो कहीं से क्रय कर लायें।
                                सौ रुपये कितने में मिलते,
                                 मंडी चलकर पता लगायें।
                                 यह तो पता करो पापाजी,              
                                 पाँच रुपये कितने में आते,
                                 एक रुपये की कीमत क्या है,
                                क्यों इसका न पता लगाते।
                                नोट पाँच सौ का लेना हो,
                                तो हमको क्या करना होगा।
                                दस का नोट खरीदेंगे तो,            
                                धन कितना व्यय करना होगा।
                                पापा ‍‍बोले  बाज़ारों  में,
                                 रुपये नहीं बिका करते हैं।
                                रुपये के बल पर दुनिया के,
                               सब बाज़ार चला करते हैं।
                               श्रम शक्ति के व्यय करने पर,
                               रुपये हमको मिल  जाते हैं ।
                               कड़े परिश्रम के वृक्षों पर,
                               रुपये फूलकर फल जाते हैं।
                 
--

नये वर्ष में


                नये तरीके से  क्यों न हम,
                सब बच्चे नव वर्ष मनायें।            
                रामू श्यामू तुमने जोड़े,
                हैं गुल्लक में कितने पैसे।
               पाकिट खर्च बचाकर रखना,
              मोहन सोहन किसी तरह से।
              नहीं वी डि ओ गेम खरीदें,
              पापा से यह साफ बताना।
              लीला शीला इसी तरह से,
              पैसे होंगे तुम्हें बचाना।
              फिर लेकर‌ फल फूल कहीं से,   
             वृद्ध, निर्बलों को दे आयें।
              नये तरीके से  क्यों न हम,
              सब बच्चे नव वर्ष मनायें।   

               कापी कलम किताबें क्यों न,
              हम सब मिलकर करें इकट्ठी।
              खड़ी प्रतीक्षा में रहती है,
              शहर गांव की झोपड़ पट्टी।
             नन्हें मुन्ने छोटे बच्चे,
             देख किताबें पुलकित होंगे।
          
             चेहरों पर बूढ़ी आंखों के,
            सुंदर अपने लहक उठेंगे।
             दलित गरीबों के घर जाकर,
             क्यों न उनको गले लगायें।
             नये तरीके से  क्यों न हम,
             सब बच्चे नव वर्ष मनायें।   
--

     गधेराम ट्रेन में

image
            बैठ ट्रेन में गधेराम जी,
           निकले हैदराबाद को।
           उनका था संगीत समागम,
          आनेवाली रात को।

          किंतु बर्थ के ठीक सामने,
          एक आदमी बैठा था।
          पल पल में तंबाकू खाता,
          पल में सिगरेट पीता था।

          खांस खांस कर गधेराम का,
          हाल बड़ा बेहाल हुआ।
          उड़ी महक तंबाकू की तो,
          लुड़का और निढाल हुआ।

            किंतु होश जैसे आया तो,
            वह टी.टी को ले आया।
            तंबाकू खाने वाले का,
            सौ जुर्माना करवाया।

              फिर बोला टी टी से ,भैया,
              मेरी सीट बदलवा दो।
              इंसानों से दूर कहीं भी,
             जगह जरा सी दिलवा दो।
--

1 blogger-facebook:

  1. बहुत ही सुंदर रचनाये, बधाई |शंकर लाल

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------