सोमवार, 31 दिसंबर 2012

मनोज 'आजिज़' की नव वर्ष पर एक ग़ज़ल - इक साल फिर

image

नव वर्ष पर एक ग़ज़ल 

इक साल फिर ... (ग़ज़ल)

                   -- मनोज 'आजिज़'

इक साल फिर बीत गया उम्र भी ढली 

फिसल गए इतने दिन कर आँख मिचौली 

 

न साथ दे पाया काफ़िले-ख़्वाब को हमने 

सोचता हूँ कब हुई ख्वाहिशात भली 

 

ये भी सच जो बीत गया बात गयी 

पर रहते हैं ज़ेहन में यादें खट्टी मखमली 

 

आशनाई, फ़र्जो रहम क़त्ल हुए देखे गए 

कोई बताये क्या होनी कभी टली 

 

इक साल फिर आ गया नेमत इसे समझ 

छोड़ ज़िन्दगी की 'आजिज़' वो सँकरी गली 

  ---

नज़्म

           बस इसलिए ...

             

दीवारें फीकी पड़ रही थी 

झरोखों में पसरी थी धुंध 

नज़रों से ओझल था आसमान 

हवा भी दुबक बैठी थी 

                 दूर ऊँचे पहाड़ों पर।

मौजूद सिर्फ एक सिसक 

बरबस आहें 

अनकही पुकार 

और कुछ बेबस यादें।

ये हालत बस इसलिए 

कि हम बसे थे --

उम्मीदों के शहर में

 

--

जमशेदपुर 

झारखण्ड 

5 blogger-facebook:

  1. उत्तर
    1. Shukriya Satish ji. angreji naw varsh ki shubhkamanayen.
      Manoj 'Aajiz'

      हटाएं
  2. achhi ghazal o najam ke liye shukriya.
    waqt aur hatal achhe nahi hai kaya bat karun.
    chehre per hai gham-e-udasi mulakat kaise karun,
    yahi sochakar ki waqt to badlega hi
    sheyar her jajbat tumse kaise karun.
    -------saroj kant jha------

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. saroj ji apko meri rachanayen achhi lagi, shukriya. jahan tak halaat ki bat hai to yakinan ye bigdi hui hai par jina isi ka naam hai. hame apne din khud sudharne honge.
      Manoj 'Aajiz'

      हटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

और दिलचस्प, मनोरंजक रचनाएँ पढ़ें-

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------