दुर्गेश ओझा की कविता इज्जत की रखो इज्जत

image

एक निर्दोष परिन्दे को कुचल रहे थे छः वहशी दरिन्दे

बहुत हुआ अब तो उठनी चाहिए हम सबकी नींदें

बस की खिड़की पर नहीं, नराधमों पर लगे थे क्रूरता के पर्दे

कहेने को तो वो जीवित, पर वास्तव में है ये सब बदमाश मुर्दे

बस में नहीं, बलात्कारियों के अंदर जमा था घनघोर अँधेरा

हवस मिटाने नराधमों ने भोली लड़की को बड़ी निर्दयता से घेरा

हर दामिनी हैं, हमारे घर की ही वो सदस्य, उठनी चाहिए अंदर से चीख

कड़ी सज़ा,अवगणना,फटकार द्वारा हेवानों को मिलनी चाहिए कड़ी सीख

- - - - - - o o o o o o o - - - - - -

वेदनाकी कविता- ‘इज्जतकी रखो इज्जत’ – (दामिनी पर दिल्हीमें हुइ ज्यादतीके उपलक्षमे.) रचनाकार – दुर्गेश ओझा १ जलाराम नगर, नरसंग टेकरी,पोरबंदर ३६०५७५ गुजरात इ-मेल –durgeshoza@yahoo.co.in

-----------

-----------

3 टिप्पणियाँ "दुर्गेश ओझा की कविता इज्जत की रखो इज्जत"

  1. दुर्गेश जी, बहुत ही सही फ़रमाया आपने. ऐसे दरिंदों को तो मौत की सजा भी कम है |शंकर लाल

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय शंकरजी,टिपण्णीके लिए धन्यवाद,में कहानी और कविता लिखता हू. दिलको छू जाये,कला और अच्छा संदेश हो तो कहानी या गीत जिवंगित बन जाता है. धन्यवाद आपका और रचनाकारका.

      हटाएं
    2. प्रिय शंकरजी, धन्यवाद टिप्पणीके लिए. में कहानी और गीत लिखता हू. कला भाव और संदेश वाला .दिलको छू लेनेवाला लिखनेमे मजा आता आता है. आपका और रचनाकारका धन्यवाद.

      हटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.