गुरुवार, 20 दिसंबर 2012

बलबीर राणा “भैजी” की कविता - अदृश्य पहरा

image

अदृश्य पहरा

उस वीरान सरहदी सड़क पर

संगमरमर का एक पत्थर

स्मृति शेष अडिग खडा,

अडिग, इसमें उस वीर की आत्मा,

जो चिर काल से पहरा दे रहा

सरहद अपनी जीवन्त कर रहा।

सैल्यूट करते, नत मस्तक होते,

आते जाते सरहद के रक्षक,

क्षेत्र में अब आराध्य भी वही,

रक्षक भी वही, जिसका युगयुगान्तर

इस माटी के लिए समर्पित।

पूस की कांपती रात हो,

या हो, सावन की गरजती बरसात 

उस घाटी में उस रणबांकुरे की आवाज

नित्य गुंजती, सजग करती

पकडो मारो, पकडो मारो

उस अटल आत्मा का

अदृश्य पहरा तटस्थ सजग।

--

बलबीर राणा “भैजी”

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------