मनोज 'आजिज़' की नज़्म - चाहत

DSCN1080 (Mobile)

मनोज 'आजिज़' की नज़्म
चाहत
     --- मनोज 'आजिज़'
गुलदानों की खूबसूरती
आँखों को रौशनी देती है
दिल को सुकूँ पहुंचाती है
और चाहत होती है
हर शख्श कुछ ऐसा ही खिले।
पर ये मंजर कहाँ !
सपने तो अक्सर बिखरते हैं,
अरमान अक्सर टूटता है
रंज
हर नब्ज़ को थाम बैठा है
जैसे लोहे में जंग
ऐसा हो--
हर शख्श लब पे
हंसी का गुल खिलाले
और
चेहरे को गुलदान ;
रौशन हो हर आँख
हर दिल में सुकूँ कायम हो ।

0 टिप्पणी "मनोज 'आजिज़' की नज़्म - चाहत"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.