मोतीलाल की कविता - ओ मेरी धरती

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image
ओ मेरी धरती
तूने क्या दिया मुझे
महज सांसों के एवज में
बताओ तो जरा ।

फेंक दिया तूने मुझे
मेरे मकान के मलबे तले
जिनके नींव के पत्थरों को
एक-एक कर सहेजा था मैंने
ताकि ढह न जाए मकान
तुम्हारी आँधी का सामना किए बगैर
और तुम देर तक हंसते रहे
मेरी जिंदगी के पन्नों को बंदकर
ताकि डोरी के टूट जाने का डर
कहीं तुम्हें सालता न रहे जिंदगी भर
और दो अंगुली
अपने माथे के सामने कर
उठते-गिरते सांसों की गिनती
तुम बड़े आराम से गिनते रहे ।

थपकी दे-देकर
तुम मुझे सुलाते रहे
उस असीम प्रहर तक
ताकि मैं आँखें न खोल सकूं
और न उड़ा सकूं
तुम्हारी एकछत्र सत्ता की चिन्दी-चिन्दी ।

हाँ
सांसों के एवज में
यही दिया तूने मुझे
ओ मेरी धरती ।

अब भी तलाश है
टूटती-बिखरती जिंदगी की चिन्दी
समेट पाऊँ अपने दामन में
और निकल पड़ूं
उस अनकहे रिश्ते की तलाश में ।



* मोतीलाल/राउरकेला
* 9931346271

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

1 टिप्पणी "मोतीलाल की कविता - ओ मेरी धरती"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.