मंगलवार, 15 जनवरी 2013

प्रतिभा शुक्ला की कहानी - अपराधिनी

अपराधिनी
प्रतिभा शुक्ला

clip_image002

बड़ी बेटी की शादी का  समय था। नाउन उसकी मालिश करने आई थी। बैठते ही मैंने उनसे देर से आने का कारण पूछा तो उसका चेहरा वितृष्ण हो उठा, क्या बताऊँ बिटिया ज़माना बड़ा स्वार्थी हो गया है। औरत की क्या बिसात। गंदे लत्ते की तरह कैसे लोग फेंक कर चल देते हैं!

क्या हुआ दादी?

एक ठो छिनाल भेंटा गयी। बड़ी भीड़ लगी थी। कोई थूक कर चला जा रहा था तो कोई धिक्कारे जा रहा था। ऊ मुई न बोलती है न डोलती है।

कहाँ?

उहे घाटे के पास अस्पताल नहीं है! वही पर। सीढ़ी पर बैठी है। अस्पताल वाले तो अन्दर ही न घुसने दिए। बैठे-बैठे ही दुइ ठे लयिका पजा गयी। खून-मूत सब फैला है। देख-देख लोग घिन्नाए जा रहे हैं। एक लरिकवा मर गया है। दुसरका कैसा तो बतक रहा है। जाने बचेगा भी या नहीं।

अरे, उसके घर वाले कहाँ हैं? कब की बात है?

राते का है शायद। अउर कौन घर वाले? उसका मरद तो कब का छोड़ गया। एक घर में बर्तन माजती थी।
कितनी उम्र है दादी?

अरे बिटिया, बियाह हो गया तो समझो औरते है। नहीं तो अभी खेले खाए क उम्र है। बस 17-18 की समझ लो।
हे भगवन! ई बच्चे किसके हैं फिर?

कुछ लोग बता रहे थे कि जौने घरवा में बर्तन माज्ती है, उसी के सामने कौनो रिक्शा खड़ा करता था। राती में। ठीक से कब्बो देखी ही नहीं। देह भुखान रही तो जो भी मिला ग्रहण कर ली। अँधा का मांगे, दुइ ठे आँख। भूख मिटी त दूनौ अपनी राह हो लिए। ई अंधियारे क पाप लेइ के घूमत रह गयी रांड। पेट पिराने लगा तो अस्पताल चली गयी। बिटिया पास में पैसा नाही त ई दुनिया में आपनै नहीं चिन्हते, अस्पताल वाले क्या चिन्हते। भगवान क किरपा हुई, सीढ़ी पर ही हो गया।

ओह।

लेकिन बिटिया, रतियै में शायद एक लरिकवा को कौनो जनावर काट लिया। ऊ मरि गवा। दॊसर्कौ बचे न।
दादी, कोई सामाजिक संस्था या फिर आसपास के लोग मदद नहीं कर रहे हैं?

तुम भी खूब हो बहू। मरद जात की करतूत थी। मजा लिया चला गया। कौन पूछे। जो गुजरता है चारि गाली थूक देता है। हम ई कहती हैं बिटिया कि जब तुम्हारे पास क्षमता न थी तो काहे पैदा की। कौनो दाई के पास जाके गरभ गिरवा लेती। काहे दुइ ठे वंश बर्बाद की। अब इहै समझ लो कि बिटिया होती तो उसे भगवान् भी न पूछता। उसको मौत न आती। बेटा रहा, इही से मरि गवा।

मैंने पूछा, तुम्हें कितनी बेटियां हैं दादी?

छह ठो बिटिया।

मैं मौन हो चाय बनाने चली गयी।

---
पुलिस अस्पताल के पीछे, तरकापुर रोड, मिर्ज़ापुर, उत्तर प्रदेश।

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------