राजीव आनंद की कविता - इंडिया औ' भारत : गणतंत्र दिवस पर विशेष

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

इंडिया औ' भारत : गणतंत्र दिवस पर विशेष

दस करोड़ के बंगले में

कई इंडिया में रहते हैं !

आधी आबादी भारत की

इंदिरा आवास को तरसते हैं !

इंडिया के कई लोग केक औ' दूध

बिठा कर कार में कुत्‍ते को खिलाते हैं !

भारत में रहने वाले लाखों बच्‍चे

चांद को देखकर रोटी-रोटी चिल्‍लाते हैं !


पूरा शहर पी ले इतना पानी इंडिया में

हर रोज होता है बर्बाद रणवास में!

एक परिवार के पीने भर पानी

मयस्‍सर नहीं भारत के इंदिरा आवास में !

हिटरों औ' गिलाफों का ढेर लगा

इंडिया के कई बंगले औ' आवासों में !

फटे बोरों में लिपटकर ठिठुरता

मर रहा भारतीय सपूत फुटपाथों में !

 

हर वर्ष गणतंत्र दिवस

मनाने का है क्‍या अर्थ ?

गर बढ़ती जाती है

असमानता की खाई हर वर्ष !

सही अर्थों में गर मनाना है

भारत में गणतंत्र दिवस !

इंडिया औ' भारत का यह भेद

हर हाल में मिटाने को हम सब हैं विवश !

--

राजीव आनंद

प्रोफेसर कॉलोनी, न्‍यू बरगंड़ा

गिरिडीह, झारखंड़ 815301

मो. 9471765417

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "राजीव आनंद की कविता - इंडिया औ' भारत : गणतंत्र दिवस पर विशेष"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.