विजय वर्मा की कविता - जानवर कौन ?

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

  

जानवर कौन ?

हाड़ कंपाती ठंड में,

शीतलहर प्रचंड में ,

एक रात जब मैं घर आया , 

बच्चों को कुछ चिन्तित पाया।

उनके चिंता की कारण थी----

चार गायें ,या शायद

दो बछड़े और दो माएँ .

हमारे घर के सामने

सड़क के उस पार

ठंड से ठिठुरते हुए

आस-पास बैठे थे ये चार .

बच्चों ने कुछ करने की ठानी ,

मौका पाकर बन गए दानी।

एक पुरानी बड़ी-सी चादर

दो सटकर बैठे गायॊं पर डाला

ताकि उन्हें लगे न पाला।

एक पर्दा,एक कार-सीट का कवर

बाकी दोनों ज़ानवरों पर रखकर

लौटे थोड़े-से खुश होकर।

पर ख़ुशी उनकी टिक पायी न ज्यादा

बच्चों का मन रह गया आधा।

कोई गायॊं पर से था चादर ले भागा .

न जाने था कौन वह अधम,अभागा।

एक बात पूछना चाहता हूँ ,मान्यवर !

इन तीनों में आख़िर कौन है जानवर ?

वह जो दीवार से सटे-सिमटे

पगुरा  रहे थे चुपचाप निपटे? ,

या जो दूध निकालने के बाद

करते है जानवरों का अनादर?

या जो बेशर्मी से चुरा लेते हैं

जानवरों के भी पीठ से चादर ?

--

v k verma,sr.chemist,D.V.C.,BTPS

BOKARO THERMAL,BOKARO
vijayvermavijay560@gmail.co

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "विजय वर्मा की कविता - जानवर कौन ?"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.