शनिवार, 26 जनवरी 2013

मधु शर्मा की पहली कविता

 

image

मधु शर्मा की पहली कविता

  • कल सुबह,
    ओस की नन्हीं-नन्हीं बूंदों को
    देखकर
    मन खुश हो गया,
    सोचा,
    धूप निकलने से पहले
    सहेज लूं इनको
    अपने हाथों में,
    वरना सूरज
    इन्हें निगल लेगा.
    हाथ में लेना चाहा तो बिखर गयी ओस,
    रह गया केवल पानी,
    लगा, कुछ लोगों का अस्तित्व
    बस खत्म होने के लिये होता है,
    खत्म करने वाला चाहे सूरज हो या
    इन्सान.

9 blogger-facebook:

  1. किसी भी रचनाकार की पहली ही रचना को पढ़ने का सुख अलग ही होता है। उसमें भविष्‍य के बीज छुपे होते हैं। एक दस्‍तक की तरह होती है पहली रचना। स्‍वागत मधु जी

    उत्तर देंहटाएं
  2. अभिनन्दन! बहुत सुन्दर! पहली रचना में इतनी परिपक्वता तो आगे तो बहुतों की दुकान बंद होने वाली है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर रचना है. लगता ही नहीं कि पहली है. लिखती रहें लगातार.

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर कविता मधु जी. सुन्दर भाव और शिल्प. बधाई आपको .

    उत्तर देंहटाएं
  6. बात तो गंभीर कही हैं आपने,पर हम जानते है न तो ये आखिरी हैं और पहली तो हो ही नही सकती

    उत्तर देंहटाएं
  7. मधु शर्मा जी बात तो समझदारी की कि हैं , पर हम जानते हैं कि ये आख्रिरी तो है नही पर सच ये भी हैं‍ कि ये पहली रचना भी नही हैं .....

    उत्तर देंहटाएं
  8. मधु यदि ये आगाज है तो आगे आगे क्या होगा एक रचनाकार पर उसके पाठकों का पूरा हक होता है और उसी हक के चलते मैं तुमसे कहता हूँ की और लिखो बहुत लिखो ये अंतिम ना हो तुम बेहतरीन ख्याल रखती हो बहुत सुन्दर लिखती हो
    अगली रचना के इंतज़ार में

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर और प्यारी रचना है मधु जी । इसे आखिरी मत होने देना ।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------