शनिवार, 26 जनवरी 2013

एस. के. पाण्डेय की गणतंत्र दिवस विशेष बाल कविता - हमारा भारत

image

हमारा भारत 

अपना भारत प्यारा भारत अपनी आँखों का तारा है ।
भारत में जो रहने वाले उन लोगों का नारा है ।
हम भारत के भारत मेरा भारत देश हमारा है ।।
सच्चे भारतवासी को भारत प्राणों से प्यारा है ।

दुनिया में हैं देश अनेकों सब देशों से न्यारा है ।
धरा गगन का अपना भारत सूरज जैसा तारा है ।।
ज्ञान विज्ञान का जिसके फैला दुनिया में उजियारा है ।
गौरवशाली गाथा इसकी सबने सुना पुकारा है ।।


गिरवर को किरीट सरीखा इसने सिर पे धारा है ।
सागर इसके पैरों को होकर मन  मुदित पखारा है ।
राम कृष्ण की पावन धरती देवों को भी प्यारा है ।
हम भारत के भारत मेरा भारत देश हमारा है ।


भारत माता ने जब-जब रक्षा हेतु पुकारा है ।
वीर सपूतों ने तब-तब अपना तन मन सब वारा है ।।
रहा हो दुश्मन कोई कैसा हमने उसको ललकारा है ।
चढ़-चढ़ कर उसकी छाती पर हम लोगों ने मारा है ।

सभ्यता-संस्कृति की जोड़ न इसके अद्भुत भरा पिटारा है ।।
दुनिया की क्या बात कहें हम देवों ने भी उचारा है ।
गंगा, यमुना सरयू आदिक की बहती अविरल धारा है  ।
धन्य है भारत देश निराला वेद ग्रंथ का नारा है ।।


गद्दारों की बढ़ती टोली जिनका मन ही कारा है ।
चुन-चुन उनको देश निकालों भारत देश हमारा है ।।
उसका क्या है काम यहाँ जिसको न भारत प्यारा है ।
सच्चे भारतवासी को भारत प्राणों से प्यारा है ।।
दुनिया में हैं देश अनेकों सब देशों से न्यारा है ।
हम भारत के भारत मेरा भारत देश हमारा है ।।
---------
डॉ. एस. के. पाण्डेय,
समशापुर (उ.प्र.) ।
ब्लॉग: श्रीराम प्रभु कृपा: मानो या न मानो
URL1: http://sites.google.com/site/skpvinyavali/
           *********

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------