सोमवार, 21 जनवरी 2013

मोहसिन खान की दो ग़ज़लें - वो सच ही कहता है, ख़ुदा दिल में रहता है ।

ग़ज़ल – 1

ये बात नहीं तुम्हें बताने के लिए,
क्यों हारा हूँ उसे जिताने के लिए ।

गर बन्द है मुट्ठी तो इक रोब है,
खोलूँ तो कुछ नहीं दिखाने के लिए ।

यूँ तो कोई रंजिश नहीं रही तुमसे,
जी नहीं करता हाथ मिलाने के लिए ।

हो रहे हैं उनके बेतहाशा बच्चे,
पास नहीं कुछ खिलाने के लिए ।

क्या दौलत, शोहरत सब फिज़ूल,
दीवानगी चाहिए दीवाने के लिए ।

वो रवायत से हो जाए दफ़्न इसलिए,
कुछ रिश्ते चाहिए निभाने के लिए


मैं ‘तन्हा’ ही लड़ता रहूँगा दुनिया से,
वक़्त लगेगा मुझे मिटाने के लिए ।

ग़ज़ल – 2

वो सच ही कहता है,
ख़ुदा दिल में रहता है ।

सब चैन से सोते हैं,
पहरेदार जगता है ।

ये दुनिया भी अजब है,
इंसा आता है,जाता है ।

किसी को मिला सबकुछ,
कोई सबकुछ खोता है ।

जो ख़ुशी में बहाए आँसू,
वो ही ग़म में हँसता है ।

रंज, ग़म, ख़ार, दर्द,
अपना सबसे नाता है ।

मेरी तो यही तालीम है,
जो फ़कीर गाता है ।

नाज़ न कर खुद पे,
इंसा मिट जाता है ।

‘तन्हा’ सबको जाना है,
क्यों घर बसाता है । 

 
मोहसिन  ‘तन्हा’
सहा.प्राध्यापक हिन्दी
जे.एस.एम. महाविद्यालय, 
अलीबाग (महाराष्ट्र)
मो. 09860657970
Khanhind01@gmail.com

7 blogger-facebook:

  1. Mohsin saheb aki ghazlen apni baat hmtak pahunchane me kamyab huyin hain. aapko bahut sari badhayian.yun likhte rahen aur adab ko malamal karte jayiye.ummid hai jald apki nayi rachanayen padhne ko milenge.
    Manoj 'Aajiz'
    Jmashedpur
    09973680146
    mkp4ujsr@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. Mohsin saheb aapki ghazlen apni baat kah pane me kamyab hui hain
    Main ummid karta hun apki nayi rachanayen jald padhne ko milenge. apko in ghazlon ke liye bahut badhayian.
    Manoj 'Aajiz'
    Jamshedpur, Jharkhnad
    09973680146
    mkp4ujsr@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. मनोज साहब, शुक्रिया !!! यह आपकी ज़र्रानवाज़ी है, हम कहाँ इस क़ाबिल, यह तो आपकी काबलियत है, जो आप बात को समझ गए | जल्द ही नई रचनाएँ प्रेषित करूंगा ।
    मोहसिन 'तन्हा'

    उत्तर देंहटाएं
  4. यूँ तो कोई रंजिश नहीं रही तुमसे,
    जी नहीं करता हाथ मिलाने के लिए ।

    मैं ‘तन्हा’ ही लड़ता रहूँगा दुनिया से,
    वक़्त लगेगा मुझे मिटाने के लिए ।

    ye do sher hasile gazal hai.n,achchhe lage.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------