शनिवार, 19 जनवरी 2013

उमेश मौर्य की ऑडियो कहानी - घटिया

उमेश मौर्य की ऑडियो कहानी यहीं नीचे दिए गए प्लेयर पर चटका लगाकर सुनें. यदि प्लेयर दिखाई नहीं देता है तो नए क्रोम ब्राउज़र (या कोई अन्य एचटीएमएल 5 अनुरूप) का प्रयोग करें अथवा  इसके ऑनलाइन पृष्ठ पर यहाँ जाएँ.

आप चाहें तो इसका एमपी3 फ़ाइल यहाँ से डाउनलोड कर अलग से सुन सकते हैं.

2 blogger-facebook:

  1. अच्छा और रोचक प्रयास !!!
    मोहसिन ख़ान
    अलीबाग

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेनामी11:20 am

    dr. sahab

    tipaadi ke liye danyabad. kahhi dino se
    soch raha tha koi sunta bhi hi ki nahi.

    Bahut-Bahut aabhar
    Umesh

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

और दिलचस्प, मनोरंजक रचनाएँ पढ़ें-

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------