रविवार, 13 जनवरी 2013

एस. के. पाण्डेय की बाल कविता - ठंडी रानी

clip_image002

ठंडी रानी

(१)

ठंडी ने लिया मन में ठान ।

कर दूँगी सबको परेशान ।।

बच्चे बूढ़े और जवान ।

देख झुकेंगे मेरी शान ।।

(२)

किसी को था न ऐसा भान ।

ले लेगी अबकी ये जान ।।

फेल हुआ मौसम का ज्ञान ।

मानो हार गया विज्ञान ।।

(३)

चली उड़ाती मन में मौज ।

और बुलाई अपनी फ़ौज ।।

कोहरा आके छाए रोज ।

धूप न पाए कोई खोज ।।

(४)

ठंडी-ठंडी चले बयार ।

हर कोई सहता इसकी मार ।।

ऐसी ठंडी अबकी बार ।

पड़ी थी पहले कहें विचार ।।

(५)

पशु-पक्षी आदमी की बात ।

कहे कौन इनकी औकात ।।

काँपे सब अरु फिरैं लुकात ।

ठंडी ज्यादा कहि अकुलात ।।

(७)

कम्बल बिस्तर और रजाई ।

लगते मानो लिए नहाई ।।

जहाज ट्रेन व मोटर कार ।

थमीं सही सबकी रफ्तार ।।

(८)

ठंडी कहती मन मुसकाय ।

ग्लोबल वार्मिंग गई हेराय ।।

कहते बढ़ता जाये ताप ।

देखो तो मेरा प्रताप ।।

(९)

बिन बारिस बर्षा हो जाय ।

आग जले तो वेग बुझाय ।।

चादर देती श्वेत ओढाय ।

पानी को दूँ बर्फ बनाय ।।

(१० )

ठंडी रानी तजिए मान ।

ज्यादा अच्छा नहीं गुमान ।।

क्या पाओगी लेकर जान ।

हम सबसे ही तेरी शान ।।

(११)

कम से कम लो इतना जान ।

कहना सबका लीजे मान ।।

बचेगी जो हम सबकी जान ।

दिखा सकोगी आगे शान ।।

---------

डॉ. एस. के. पाण्डेय,

समशापुर (उ.प्र.) ।
ब्लॉग: श्रीराम प्रभु कृपा: मानो या न मानो

URL1: http://sites.google.com/site/skpvinyavali/

*********

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------