मंगलवार, 29 जनवरी 2013

आशीष त्रिवेदी की लघुकथा - मुख्यधारा

मुख्यधारा

सारा घर अस्त व्यस्त था। मिसेज बनर्जी सब  कुछ समेटने में जुटी थीं. आज उनके बेटे सुहास का जन्मदिन था। उसने और उसके मित्रों ने मिलकर खूब धमाल किया था। सुहास अपने कमरे में बैठा अपने उपहार देख रहा था। " मम्मी देखो विशाल ने मुझे कितना अच्छा गिफ्ट दिया है। ड्राइंग बुक। अब मैं इसमें सुंदर सुंदर ड्राइंग बनाऊंगा।" सुहास अपने कमरे से चिल्लाया।

अपने पति से अलग होने के बाद सुहास की सारी जिम्मेदारी मिसेज बनर्जी पर आ गयी। उन्होंने भी पूरे धैर्य और साहस के साथ स्थिति का सामना किया। सुहास अन्य बच्चों की तरह नहीं था। उसकी एक अलग ही दुनिया थी। वह अपनी ही दुनिया में मस्त रहता था। आज वह पूरे इक्कीस बरस का हो गया था किन्तु उसके भीतर अभी भी एक छोटा बच्चा रह रहा था। लोगों को यह मेल बहुत बेतुका लगता था। अक्सर पारिवारिक कार्यक्रमों में उनके रिश्तेदार उन्हें इस बात का एहसास करते रहते थे। शुरू शुरू में मिसेज बनर्जी  को लोगों का व्यवहार बहुत कष्ट देता था। उन्होंने बहुत प्रयास किया की सुहास भी अन्य बच्चों की तरह हो जाये। किन्तु समय के साथ साथ उन्होंने अपनी सोच बदल दी। वह क्यों अपने बेटे में दोष निकाल रही हैं। उसे ईश्वर ने जैसा बनाया है वह वैसे ही बहुत अच्छा है। उसकी मासूमियत ही उसकी सबसे बड़ी खूबी है। अब उन्होंने लोगों की बातों  पर ध्यान देना छोड़ दिया है। अभी कुछ ही दिन पहले की बात है उनकी बहन का फ़ोन आया था। बातों ही बातों में वह कहने लगीं " तेरे बारे में सोचती हूँ तो बुरा लगता है। पति से अलग हो गयी। एक बेटा है वह भी कम अक्ल इस उम्र में भी तुम्हारी जिम्मेदारी बना है।" मिसेज बनर्जी ने जवाब दिया " दीदी जो भी है वह ईश्वर की इच्छा है। रही बात सुहास की वह मेरे लिए क्या है मैं ही जानती हूँ।"

कभी कभी वह यह सोच कर परेशान हो जाती हैं की उनके बाद सुहास का क्या होगा। किन्तु जीवन में कुछ प्रश्नों का जवाब समय ही देता है। अतः सब कुछ ईश्वर पर छोड़ कर निश्चिन्त हो जाती हैं।

सारा काम निपटा कर उन्होंने सुहास के कमरे में झाँका। वह बहुत तल्लीनता से अपनी बनायी ड्राइंग में रंग भर रहा था। मिसेज बनर्जी ने सोचा भले ही दुनियाँ उसे मुख्यधारा से अलग रखे किन्तु उससे अलग भी उसका एक वजूद है।

4 blogger-facebook:

  1. अक्सर माँ -बाप के अलग होने का परिणाम उनकी संतान को उठाना पड़ता है ...कहानी अच्छी लगी।
    कभी समय मिले तो हमारे ब्लॉग पर भी पधारें ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बिल्कुल उसकी भी अपनी मुख्य्धारा है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आशीष त्रिवेदी : किरदार है पर कथा...? यह तो केवल एक स्थिति का ब्यौरा हुआ...!!

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------