वन्दना तिवारी की कविता - जिन्दगी को क्या राह दूं?

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

*''जिन्दगी को क्या राह दूं?''
आजाद हूं...
जिन्दगी को क्या राह दूं?
खो दिया है खुद को ही,
पग भूमि से उठ गये,
लुट रहीं हैं रोज अस्मत,
इतने विकसित हो गये!
खो जाउं मैं भी आवेश मे या बदलाव को अंजाम दूं?
आजाद हूं...
सहमे हुए हैं साये,
यूं आजादी की पुरवाइयां हैं।
क्या अनुसरण उस इतिहास का
अब तो ये सब रूढ़ियां है।
गिर जाएंगे यदि खड्ड में,
सैलाब सड़क पर आएगा ही,
उस ज्वार की तीव्रता से क्या,
दरारें ज़िगर की भर पाएंगी?
बचा लूं खुद को गिरने से, या आक्रोश को हवा दूं?
आजाद हूं पर जिन्दगी को क्या राह दूं??
-विन्दु
साखिन,हरदोई
blog-wing of fancy
URL-wing-vandana.blogspot.com

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

4 टिप्पणियाँ "वन्दना तिवारी की कविता - जिन्दगी को क्या राह दूं?"

  1. आपका बहुत शुक्रिया श्रीवास्तव जी!
    सादर आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी कविता है

    उत्तर देंहटाएं
  3. सादर धन्यवाद महोदय!

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.