प्रभुदयाल श्रीवास्तव की बाल कविता

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

मैं शाला न आ पाऊंगी

                    मां की तबियत बहुत खराब।
                     बापू को हो रहे जुलाब।
                     इसीलिये तो हे शिक्षकजी,
                     मैं शाला न आ पाऊंगी।

                    मुझे पड़ेगा आज बनाना।
                    अम्मा बापू,सबका खाना।
                    सुबह सुबह ही चाय बनाई।
                    घर के लोगों को पिलवाई।        
                    जरा देर में वैद्यराज के,
                    घर बापू को ले जाऊंगी।
                    इसीलिये तो हे शिक्षकजी,
                    मैं शाला न आ पाऊंगी।
                   
                   दादा की सुध लेना होगी।
                   उन्हें दवाई देना होगी।
                   दादीजी भी हैं लाचार।       
                   उन्हें बहुत करती मैं प्यार।
                   अभी नहानी में ले जाकर,
                   उन्हें ठीक से नहलाऊंगी
                   इसीलिये तो हे शिक्षकजी,
                   मैं शाला न आ पाऊंगी।

                   छोटा भाई बड़ा शैतान।
                   दिन भर करता खींचातान।
                  कापी फेंक किताबें फाड़।
                  रोज बनाता तिल का ताड़।
                  बड़े प्रेम से धीरे धीरे,
                  आज उसे मैं समझाऊंगी।
                  इसीलिये तो हे शिक्षकजी,
                  मैं शाला न आ पाऊंगी।

                  मुझे आज की छुट्टी देना।
                  शिक्षकजी गुस्सा मत होना।
                 गृह का कार्य शीघ्र कर लूंगी।
                 पाठ आज का कल पढ़ लूंगी।
                 काम पड़ा है कितना सारा,
                  आज नहीं पढ़ लिख पाऊंगी।
                  इसीलिये तो हे शिक्षकजी,
                 मैं शाला न आ पाऊंगी।

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

3 टिप्पणियाँ "प्रभुदयाल श्रीवास्तव की बाल कविता"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.