मंगलवार, 12 फ़रवरी 2013

चंद्रेश कुमार छतलानी की व्यंग्य कहानी - सच की तस्वीर

सच की तस्वीर

आनंद जी अनमने मन से हर तस्वीर को देखते जा रहे थे। विद्यालय के प्रिंसिपल महोदय उनके साथ थे और सारे विद्यार्थी सांस रोके इस प्रतीक्षा में थे कि, जिसकी बनाई तस्वीर को प्रथम पुरस्कार मिलेगा, उसके  नाम की घोषणा कब होगी।

आनंद जी आज इस प्रदर्शनी में मुख्य अतिथि एवं निर्णायक बन कर आये हुए थे, वो एक विश्वविद्यालय के कुलपति थे। शहर के एक प्रधान विद्यालय के बच्चों की प्रतिभा जो ड्राइंग शीट पर उकेरी हुई है, उसको सम्मानित करने के उद्देश्य से मुख्य निर्णायक के रूप में उन्हें आमंत्रित किया गया था ।

दोपहर के इस कार्यक्रम के लिए सवेरे ही उनके पास दो फोन आ गए थे, एक उनकी पत्नी के भाई का और एक मंत्री महोदय का, दोनों के नौनिहाल इसी विद्यालय में अध्ययनरत थे। और दोनों ही प्रथम पुरस्कार के इच्छुक थे।

आनंद जी मन से दुखी थे, वो सोच रहे थे कि, “कौन बनेगा करोड़पति” सरीखे प्रश्नोत्तरी कार्यक्रम की तरह उनके पास भी विकल्प मिले हुए हैं, पहला मंत्रीपुत्र,  दूसरा धर्मपत्नी का भतीजा और तीसरा जो वास्तव में योग्य है। तीसरा विकल्प तो चुनना ही नहीं है। अब बचे दो। सोच रहे थे कि या तो मंत्रीपुत्र को प्रथम और धर्मपत्नी के  भतीजे को द्वितीय पुरस्कार दे दें। और जो वास्तव में योग्य है उसके तीसरा दे दिया जाये । फिर कभी सोचते कि नहीं प्रथम पुरस्कार तो भतीजे को ही दिलाया जाये, उसके जीवन में अधिक काम आयेगा और मंत्रीपुत्र को द्वितीय बना दें। लेकिन कहीं मंत्रीजी नाराज़ होकर स्थानान्तरण ना कर दें।

“ओफ्फोह ! क्या अंतरद्वन्द है? क्या करूं?” मन ही मन ये सोचते हुए आनंद जी एक तस्वीर के सामने ठिठक से गये, और उनके मुख से निकल गया “अरे!! यह क्या है?”

तस्वीर में एक छोटा सा बच्चा था जिसकी बहुत बड़ी मूंछें थी। मूंछों के एक तरफ कुर्सी लटक रही थी और दूसरी तरफ माता लक्ष्मी लटक रहीं थी। तस्वीर की पृष्ठभूमि में भारत का नक्शा बना हुआ था। 

उन्होंने प्रिंसिपल महोदय से थोड़ा क्रोधित होकर पूछा कि “अरे!! यह क्या है? प्रिंसिपल महोदय, इस तरह के देश और भगवान के साथ खिलवाड़ करने वाली तस्वीर यहाँ क्यों टंगी है? क्या आप इस तरह से अपने विद्यार्थियों को देशभक्त बना रहे हैं? विद्यालय मंदिर की तरह होता है और इसमें भारत के नक़्शे में माँ लक्ष्मी मूंछों पर लटकी हुई है। इस तरह की अपमानजनक तस्वीर क्यों? इसे तुरंत हटा दें। हमें देश को सच्चे और संस्कारित नागरिक देने हैं। इस कार्य में इस तरह की नकारात्मक तस्वीरें बाधक होती हैं।”

प्रिंसिपल साहब ने तुरंत ही उस तस्वीर को हटाने का आदेश दे दिया और इस तस्वीर के रचियता को बुलाया, ताकि दण्डित कर सकें।

एक छोटा सा गरीब बच्चा, जिसकी कमीज़ भी फटी हुई थी, वो दण्डित होने के लिए हाज़िर हो गया। प्रिंसिपल महोदय ने उसके डांटते हुए पूछा, “इस तरह की हरकत करने की तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई? तुम खुद छात्रवृत्ति लेकर पढ़ते हो और जो देश तुम्हारी पढ़ाई का खर्च उठा रहा है, उसी के विरुद्ध और अपने धर्म के विरूद्ध कार्य करते हो। पता है मुझे तुम्हारी वजह से कितना शर्मिन्दा होना पडा?”

फिर प्रिंसिपल महोदय, आनंदजी की ओर मुखातिब होकर बोले कि, “सर, क्षमा चाहूंगा, जिस परिवार से यह है, उसमें ऐसे ही संस्कार हैं, तभी ऐसा बन रहा है।”

आनंदजी के चेहरे पर हलकी सी मुस्कराहट आ गयी।

वह बच्चा बिलखते हुए बोला, “आदरणीय प्रिंसिपल सर, मैं किसी असंस्कारित परिवार से नहीं हूँ। मेरे दादाजी स्वतन्त्रता सेनानी थे और उसी आन्दोलन में अपनी आहुति दे दी। मेरे पिताजी मोटर इंजीनियर थे, लेकिन उनकी प्रतिभा देखकर उनके अपने एक साथी ने ईर्ष्यावश उनके हाथ मशीन में डाल दिए और वे हाथ गँवा बैठे।”

आनंदजी के चेहरे की मुस्कराहट गंभीरता में बदल गयी।

वह बच्चा निरंतर कह रहा था कि “सर, मैं देश को खराब क्यों करूंगा मैं क्यूँ कुसंस्कार को प्रचारित करूंगा? मेरे परिवार में बलिदान देने की प्रथा है। नींव की ईंट बनने की प्रथा है।”

प्रिंसिपल महोदय एक छोटे से बच्चे के मुंह से इतनी बड़ी बातें सुनकर हतप्रभ रह गए। और आनंद जी का मुंह कुछ फीका सा पड गया ।

अब उस बच्चे ने कहा “सर, मेरे दादाजी कहते थे कि आज़ादी के बाद यह देश बहुत सुन्दर हो जायेगा। अंग्रेज का बच्चा नहीं भारत का बच्चा आगे बढेगा। योग्य वो होगा जो देशप्रेमी है। उत्तम वो होगा जो संस्कारित है और कर्मशील है। सर, मेरे दादाजी झूठ बोलते थे, इसलिए मैंने सच की तस्वीर बनायी है।”

प्रिंसिपल महोदय “नहीं तुम्हारे दादाजी सच ही तो कहते थे, आज हम स्वतन्त्र हैं, और जो आगे बढ़ रहे हैं वो भारत के बच्चे ही तो हैं। तुम्हें ऐसा क्यों लगता है?”

आनंदजी ने प्रिंसिपल महोदय की बात काट कर गंभीरता से पूछा, “यह भी बताओ कि ये सच की तस्वीर क्या बला है?”

बच्चे ने उत्तर दिया “सर, मैंने जो तस्वीर बनायी उसमें एक छोटे बच्चे की बहुत बड़ी मूंछें हैं, यह बच्चा भारत का बच्चा है। मूंछें इसकी प्रतिष्ठा है, जो कि मूंछों की तरह सिर्फ दिखाने के लिए ही हैं। और इन मूंछों के सहारे एक तरफ लटक रहे हैं कुर्सीपति जो इन मूंछों का नाम लेकर उसका उपयोग अपनी कुर्सी बचाने में और अपने कार्य सिद्ध करने में लगे हुए हैं, दूसरी तरफ लक्ष्मीपति लटक रहे हैं जो कहते हैं कि वो गरीबों के उत्थान के लिए दान दे रहे हैं और अपनी खुद की जेब भरने में लगे हुए हैं, इस तरह से मूंछों का उपयोग कर रहे हैं।

ये मूंछें, हमारी प्रतिष्ठा केवल दिखाने के लिए ही है। धनपति और कुर्सिपति इसका उपयोग स्व-उत्थान के लिए कर रहे हैं। कभी भगवान के मंदिर बना के, कभी झूठा-सच्चा दान करके, कभी हमारी गरीबी को बेच के, कभी अस्वस्थता के नाम पर, अशिक्षा के नाम पर, कभी हमारी स्त्री-बच्चे बेच के, कभी पास होने का या नौकरी से निकाल देने का डर दिखा के, कभी कुछ तो कभी कुछ या कुछ और.... ये मंदिर, मस्जिद, अस्वस्थता, गरीबी, अशिक्षा, डर, आदि भारत के बच्चे की मूंछें हैं। सर, ये सभी इन मूंछों के सहारे से अपने आप को आगे बढ़ा रहे हैं।”

अपनी थूक निगल कर बच्चा पुनः बोला,

“सर, दादाजी झूठ कहते थे। आज भारत का बच्चा आगे नहीं बढ़ता, या तो कुर्सीपति का बच्चा या फिर धनपति का बच्चा आगे बढ़ता है।

इसलिए, उनके लिए मैंने सच की तस्वीर बनाई। कभी तो वो इसे देखेंगे और समझेंगे कि नाहक ही उन्होंने अपनी जान दे दी।”

बच्चे के चुप होते ही पूरे कमरे में चुप्पी छा गयी। प्रिंसिपल महोदय जाने क्यों शर्मिन्दा से हो रहे थे और आनंद जी बदहवास से खड़े थे और उनके हाथ में परिणाम-पत्रक था, जिसमें सुन्दर, स्व-कार्य, स्वच्छता, अद्वितीय, अर्थपूर्ण और ‘निर्णायक की पसंद’ के अंक भरने की प्रतीक्षा कर रहे थे। सच की तस्वीर के सामने हार मानने की हिम्मत नहीं हो रही थी।

- चंद्रेश कुमार छतलानी

chandresh.chhatlani@gmail.com

Chandresh Kumar Chhatlani

+91 99285 44749
http://chandreshkumar.wetpaint.com

स्थान  - उदयपुर (राजस्थान)

शिक्षा - एम. फिल. (कंप्यूटर विज्ञान), पी.एच.डी. (वर्तमान में चल रही है) तकरीबन १०० प्रमाणपत्र (ब्रेनबेंच, स्वीडन से)
भाषा ज्ञान - हिंदी, अंग्रेजी, सिंधी

लेखन - पद्य, कविता, ग़ज़ल, गीत, कहानियाँ

पता - ३ प ४६, प्रभात नगर, सेक्टर - ५, हिरण मगरी, उदयपुर (राजस्थान)
फोन - ९९२८५ ४४७४९
ई-मेल - chandresh.chhatlani@gmail.com
यू आर एल - http://chandreshkumar.wetpaint.com

कार्य - १३ वर्षों से कंप्यूटर सोफ्टवेयर एवं वेबसाईट डवलपमेंट का कार्य
        अभी एक विश्वविद्यालय (जनार्दन राय नागर राजस्थान विद्यापीठ) में सहायक आचार्य (कंप्यूटर विज्ञान)

1 blogger-facebook:

  1. Roshni11:08 pm

    bahut hi sensitive kahani he. padh kar acha bhi laga or is sachai ko jan kar man dukhi bhi hua.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------