रचनाकार में खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

सुरेन्द्रकुमार वर्मा. का आलेख - लो फ़िर आया मधुमय वसन्त

SHARE:

            लो फ़िर आया मधुमय वसन्त                                                                                                         ...

           
लो फ़िर आया मधुमय वसन्त                                                                                                                                            श्रीमद्भगवत्गीता के विभूति योग मे भगवान श्रीकृष्ण कहते हैं--                      
 “मासानां मार्गशीर्षोSहम ऋतूनां कुसुमाकरः/(३५/१०) “                          
 ऋतुओं में वसन्त ऋतु मैं हूँ.                                                                                            माघ मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि वसन्तपंचमी को वसन्त ऋतु के आगमन का स्वागत किया जाता है.    नयी-नयी कोमल-कोमल कोपलों से लदी वृक्षों की टहनियाँ, गुलाब, चमेली, चम्पा, सरसों के फ़ूल, रंगबिरंगी उडती-फ़िरती तितलियाँ, गुंजन करते भौरें, अमराई में कोयल की कूक और गेहूँ की भरी बालियाँ,जब खेतों में दिखें तो समझो मधुमय वसन्त आ गया.                            दादा माखनलाल चतुर्वेदी कह उठते हैं-                                    “फ़ैल गया पर्वत शिखरों तक वसन्त मनमाना                                पत्ती-कली-फ़ूल डालों में दीख रहा मस्ताना”                              
 जब कभी भी कोई अपने पूरे ऎश्वर्य में प्रकट होता है तो वह ईश्वर हो जाता है-वसन्त ऋतु अपने ऎस्श्वर्य के साथ आती है और जीती है,इसीलिए तो कृष्ण ने कहा है—“ऋतूनां कुसुमाकरः”            साहित्य में वसन्त ऋतु को आनन्द और सौंदर्य का प्रतीक माना है. शायद ही कोई ऎसा कवि होगा जिसने वसन्त का वर्णण न किया हो. सूर-तुलसी से लेकर निराला, पंत तक सभी को मधुमय ऋतुराज ने अपने यौवन से प्रभावित किया है.                                        गोस्वामीजी ने वसन्त को कामदेव का सहायक माना है. कामदेव ने शिव की तपस्या भंग करने से पूर्व, प्रकृति मे वसन्त का विस्तार किया था. उस समय की मनोदशा का वर्णन तुलसी इन शब्दों में करते हैं                                                        “सबके हृदय मदन अभिलाषा-लता विलोकि नवाहिं तरु शाखा                        नदी उमगि अंबुधि कहुं धाई-संगम करहिं तुलाव तलाई                            जहं अस दशा जडन्ह कै बरनी-को कहि सकै सचेतन करनी                        पशु पच्छी नभ जल थल चारी-भए काम बस समय बिसारी”                                                                            वात्सल्य रस के कुशल चितेरे सूरदासअजी भी मधुमय ऋतुराज के प्रभाव से अछूते न रह सके. एक स्थान पर उनके द्वारा वर्णित उपमा देखने लायक है.                                “कोकिला बोली, वन-वन फ़ूलै, मधुप गुंजारन लागै                            सुनि शोर, रोर वादिन को, मदन महीपति जागै  
      ते दूने,अंकुर द्रुम पल्लव,जे पहले सब दागे.                            मानेहुँ रतिपति रीझि जात कवि, बरन –बरन दए बागे”                                                                        मुख्यतः वसन्त के दो माह होते हैं...चैत्र और वैशाख. पौराणिक व्याख्याकार कहते हैं कि सभी ऋतुओं ने स्वेच्छा से अपने प्रिय राजा ऋतुराज वसन्त को अपनी-अपनी अवधि के आठ(८) दिन दे दिए. पांच(५) ऋतुओं के ८-८ मिलाकर चालीस दिन हुए, जो चैत्र बदी प्रतिपदा के चालीस दिन पूर्व माघ शुक्ल पंचमी को आता है, यही तिथि “वसन्त पंचमी” वसन्त आगमन महोत्सव है.                                                    सभी वसन्त का आनन्द लेना चाहते हैं. वे दुर्भाग्यशाली हैं जो आनन्द नहीं ले पाते. प्रेमाख्यान के कवियों में मुख्य कवि मलिक मुहम्मद जायसी ने “नागमती विरह”  कॊ वसन्त से कैसे जोडा है, यहा! वसन्त विरह को भी विरह से भर रहा है                            “ नहिं पावस जेहि देसरा, नहि हेमन्त वसन्त/ न कोकिल न पपीहरा,जेहि स्सुनि आवे कन्त”      
    वसन्त का समय प्राचीन भारत में उत्सवों का काल हुआ करता था. संस्कृत के किसी भी काव्य ग्रंथ को पढिए,वसन्त आ ही जाएगा. कालिदास तो वसन्तोत्सव का बहाना ढूंढते रहते-से लगते हैं. डा. हजारीप्रसाद द्विवेदी कहते हैं-“वसन्त आता नहीं, ले आया जाता है.”                मन में उत्साह और उमंग भरकर सदकर्म करने की चेष्टा व प्रयास ही जीवन में मधुमय वसन्त का आगमन है. जब भी मानव मन में उत्साह और उमंग की गिरावट आती है, उसका शरीर भी शिथिल होने लगता है.,किंतु जब पर्यावरण में समस्त पंचेन्द्रियों को सुखद अनुभूति देने वाले दृष्य उपस्थित हो जावें तो डूबता हुआ मन भी उचित कर्म के संकल्प लिए जाग जाता है. शुभ कामनाओं और इच्छाओं का सक्रिय होकर मनुष्य़ को कर्म में प्रेरित करना ही मधुमय वसन्त का जीवन में आगमन है. किसान जब अपनी लहलहाती फ़सल को देखता है, तब चारों ओर की हरियाली ही खुशहाली का प्रतीक बन जाती है. ढोलक पर थाप पडती है, नूपुर नाच उठते है, होली-धमार के गीत होंठॊं पर थिरकने लगते हैं. लोकगीतों में मधुमय वसन्त पूरे यौवन के साथ उतर जाता है और अमर शहीद भगतसिंह भी वसंती रंग में रंग जाते हैं और कह उठते हैं—“ मेरा रंग दे वसन्ती चोला”.                                            लोकगीत ही नहीं, शास्त्रीय गायन शैली मे भी वसन्तराग को दूल्हा राग माना जाता है. ऋतुराज में गायक गा उठता है.    “ऋतु वसंत मन भाय सखी-सब मिल आज उमंग मनाओ”या फ़िर राग कामोद में गा उठता है    “ऋतु ससंत सखि मो मन भावत-रस बरसावत मोद बढावत”          
          
   परिवर्तन प्रकृति का शाश्वत नियम है. ऋतुओं मे परिवर्तन सतत होता है. ठिठुराती ढंड और चिलचिलाती गर्मी के बीच वसन्त अपने स्वास्थ्यवर्धक वातावरण क सुखद स्पर्ष देता है. इस ऋतु में वात-पित्त-कफ़ तीनों सम होते हैं. अतः मन में प्रफ़ुल्लता सहज ही आ जाती है. प्रकृति के सुकुमार कवि पं. सुमित्रानन्दन पंत कहते हैं
“नव वसन्त आया/कोयल ने उल्हासित कंठ से अभिवादन गाया./रंगों से भर उर की डाली/अधर पल्लवों के रत लाली/पंखडियों के पंख खोल/गृह वन मे छाया/नव वसन्त आया”            प्रकृति में [प्राणियों को दो भागों में विभक्त किया है. एक स्थावर, दूसरा जंगम. स्थावर अर्थात वे प्राणी जिसके प्राण तो है, पर एक स्थान पर खडॆ रहते हैं. जंगम वे हैं,जो स्थान बदल लेते है. आयुर्वेद के सिद्धांत के अनुसार स्थावर अर्थात वनस्पति में वसन्त ऋतु में रस का संचार ऊपर की ओर होता है तथा जंगम याने मनुष्यादि के शरीर में नवीन सुधिर का प्रादुर्भाव होता है,जो उमंग और उत्साह बढाता है.

उमंग और उत्साह को बढाने वाली साहित्य में एक सशक्त विधा है, जिसे व्यंग कहते हैं. व्यंग विधा के शीर्षस्थ लेखक हरिशंकर परसाई की वंसत से नोकझोंक देर तक मस्तिस्क को गुदगुदातीहै “मुझे लगा दरवाजे फ़िर दस्तक हुई. मैंने पूछा-कौन?. जवाब आया-“मैं वसन्त”. मैं खीज उठा- “कह तो दिया फ़िर आना”. उधर से जवाब आया-“मैं बार-बार कब तक आता रहूँगा, मैं किसी बनिये का नौकर नहीं हूँ- ऋतुराज वसन्त हूँ. आज तुम्हारे द्वार पर फ़िर आया हूँ और तुम फ़िर सोते मिले हो.,,अलाल-अभागे. उठकर बाहर तो देखो -ठूठों ने भी नव पल्लव पहिन रखे हैं”. मैंने मुँह उघाडकर कहा-“भई माफ़ करना, मैंने तुम्हें पहचाना नहीं. अपनी यही विडम्बना है कि ऋतुराज वसन्त भी आए तो लगता है, उधारी के तगादे वाला आया है”.        
       कुछ भी हो, वसन्त आता है, आएगा और आता रहेगा-वह ऋतुराज है. स्थावर-जंगम को सम्पूर्ण पृथ्वी को, कवियो को, प्रेमियों को, सभी को वह प्रिय है-वह राजा है- और जैसे राजा अपनी चतुरंगिनी सेना हाथी-घोडा,रथ और पैदल में चार अंग लेकर प्रस्थान करता है, ऋतुराज मधुमय वसन्त भी रंग-बिरंगे फ़ूलों को लेकर वन, उपवन में उपस्थित होता है. उसके कारण प्रकृति नववधू सी लगने लगती है. कलियो का सुन्दर हार लेकर नई नवेली लतिका, कोमल पत्तों का परिधान पहनकर अपने प्रिय तरुवर से आलिंगित हो जाती है  
  
वसन्त केवल मांसल सौंदर्य का प्रतीक नहीं है. महाप्राण निराला ने इसे विश्वकल्यानी के रुप में वसन्त उद्दत रुप को प्रतिष्ठित किया है.                                “मधुवन मे रत, वधू मधुर फ़ल/देगी जग को स्वाद,तोष दल/गरला मृत शिव आशुतोष बल, विश्व सकल नेगी/वसन वासंती लेगी.”                                वसन्त का प्रकृतिक मधुमय परिदृष्य मन में आल्हाद भरता है और जब भीतर हृदय तक भिद जाता है. सौंदर्य जब आत्मसौंदर्य के आनन्द में परिणित होकर उतरता है, तब उसमे स्थायित्व आता है.                                            जो वसन्त आत्मानन्द की रसानुभूति करा दे, उस वसन्त की भारतीय मनीषा सदैव बाट जोहती रहती है.                                          

 जिसमे प्राणॊं की वीणा बजने लगती है, मनोमस्तिस्क से विषाद के बादल हट जाते हैं. परमतत्व से एकाकार के आल्हाद की मुमुक्षता में चिरस्थायी वसन्त की चिर प्रतीक्षा में छायावादी कवियित्री महादेवी वर्मा कह उठती हैं-                             
      “जो तुम आ जाते एक बार                                कितनी करुणा,कितने संदेश/ पथ में बिछ जाते बन पराग                    गाता प्राणॊं का तार-तार/अनुराग भरा उन्माद राग                        आसूं लेते वे पथ परवार/ जो तुम आ जाते एक बार                        हंस उठते पल में आर्द्र नयन/घुल जाता ओठों का विषाद                        छा जाता जीवन में वसन्त/ लुट जाता चिरसंचित विराग                        आंखें देती सर्वस्व वार/    जो तुम आ जाते एक बार.                      

हम सतयुग और त्रेतायुग के वसन्त की बात छोड दें, हाल के ही १००-५० वर्षों के वसन्त का आंकलन करें तो हम पाएंगे कि वसन्त ऋतु तो हर साल आती है, पर वसन्त की मधुमयता शनै- शनै फ़ीकी पडती जा रही है.                              
 वसन्त उतरता है वृक्षॊं पर, लताओं पर, बाग-बगिचों पर और स्वस्थ मन पर. जंगल के जंगले साफ़ हो रहे हैं. नगर महानगर में बदल रहे हैं. विषैली गैसों से पौधों और लताओं का फ़ैलाना-पनपना मुश्किल हो रहा है. उन पर वसन्त की बात तो अब दूर की हो गई है. वसन्त स्वस्थ पर्यावरण का हर्ष है. अस्वस्थ मुर्झाई सी बीमार डालियाँ वसन्त का क्या स्वागत करेंगी.        फ़ूल नहीं है तो भौंरे नहीं ,तितलियाँ नहीं.फ़ूल नहीं तो पराग बिन मधु संचय कहाँ से होगा? माधु विहीन वसन्त को फ़िर किसी और नाम से पुकारना होगा.     
            
 जीवन में वसन्त और वसन्त में जीवन जीना है तो पृथ्वी के पर्यावरण को स्वस्थ बनाना होगा  जल, वायु, मिट्टी और अरण्य को शुद्ध रखना होगा. प्राकृतिक धरोहरों की रक्षा करनी होगी. तब और तभी, वसन्त अपने वसन्ती रंग में आएगा.                        शायद इसीलिए डा.हजारीप्रसाद द्विवेदी ने कहा था-:वसन्त आता नहीं ले आया जाता है”.     
  प्रकृति से सच्चा प्रेम और नैतिक मूल्यों के उच्च आयाम ही वसन्त की रक्षा कर सकते हैं                                 

  सुरेन्द्रकुमार वर्मा.                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              

COMMENTS

BLOGGER: 1
Loading...

विज्ञापन

----
.... विज्ञापन ....

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=complex$tbg=rainbow$count=6$page=1$va=0$au=0

विज्ञापन --**--

|कथा-कहानी_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$count=6$page=1$src=random-posts$s=200

|हास्य-व्यंग्य_$type=blogging$au=0$count=6$page=1$src=random-posts

-- विज्ञापन --

---

|लोककथाएँ_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$count=6$page=1$src=random-posts

|लघुकथाएँ_$type=list$au=0$count=5$com=0$page=1$src=random-posts

|काव्य जगत_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$count=6$page=1$src=random-posts

-- विज्ञापन --

---

|बच्चों के लिए रचनाएँ_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$count=6$page=1$src=random-posts

|विविधा_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$va=0$count=6$page=1$src=random-posts

 आलेख कविता कहानी व्यंग्य 14 सितम्बर 14 september 15 अगस्त 2 अक्टूबर अक्तूबर अंजनी श्रीवास्तव अंजली काजल अंजली देशपांडे अंबिकादत्त व्यास अखिलेश कुमार भारती अखिलेश सोनी अग्रसेन अजय अरूण अजय वर्मा अजित वडनेरकर अजीत प्रियदर्शी अजीत भारती अनंत वडघणे अनन्त आलोक अनमोल विचार अनामिका अनामी शरण बबल अनिमेष कुमार गुप्ता अनिल कुमार पारा अनिल जनविजय अनुज कुमार आचार्य अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ अनुज खरे अनुपम मिश्र अनूप शुक्ल अपर्णा शर्मा अभिमन्यु अभिषेक ओझा अभिषेक कुमार अम्बर अभिषेक मिश्र अमरपाल सिंह आयुष्कर अमरलाल हिंगोराणी अमित शर्मा अमित शुक्ल अमिय बिन्दु अमृता प्रीतम अरविन्द कुमार खेड़े अरूण देव अरूण माहेश्वरी अर्चना चतुर्वेदी अर्चना वर्मा अर्जुन सिंह नेगी अविनाश त्रिपाठी अशोक गौतम अशोक जैन पोरवाल अशोक शुक्ल अश्विनी कुमार आलोक आई बी अरोड़ा आकांक्षा यादव आचार्य बलवन्त आचार्य शिवपूजन सहाय आजादी आदित्य प्रचंडिया आनंद टहलरामाणी आनन्द किरण आर. के. नारायण आरकॉम आरती आरिफा एविस आलेख आलोक कुमार आलोक कुमार सातपुते आशीष कुमार त्रिवेदी आशीष श्रीवास्तव आशुतोष आशुतोष शुक्ल इंदु संचेतना इन्दिरा वासवाणी इन्द्रमणि उपाध्याय इन्द्रेश कुमार इलाहाबाद ई-बुक ईबुक ईश्वरचन्द्र उपन्यास उपासना उपासना बेहार उमाशंकर सिंह परमार उमेश चन्द्र सिरसवारी उमेशचन्द्र सिरसवारी उषा छाबड़ा उषा रानी ऋतुराज सिंह कौल ऋषभचरण जैन एम. एम. चन्द्रा एस. एम. चन्द्रा कथासरित्सागर कर्ण कला जगत कलावंती सिंह कल्पना कुलश्रेष्ठ कवि कविता कहानी कहानी संग्रह काजल कुमार कान्हा कामिनी कामायनी कार्टून काशीनाथ सिंह किताबी कोना किरन सिंह किशोरी लाल गोस्वामी कुंवर प्रेमिल कुबेर कुमार करन मस्ताना कुसुमलता सिंह कृश्न चन्दर कृष्ण कृष्ण कुमार यादव कृष्ण खटवाणी कृष्ण जन्माष्टमी के. पी. सक्सेना केदारनाथ सिंह कैलाश मंडलोई कैलाश वानखेड़े कैशलेस कैस जौनपुरी क़ैस जौनपुरी कौशल किशोर श्रीवास्तव खिमन मूलाणी गंगा प्रसाद श्रीवास्तव गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर ग़ज़लें गजानंद प्रसाद देवांगन गजेन्द्र नामदेव गणि राजेन्द्र विजय गणेश चतुर्थी गणेश सिंह गांधी जयंती गिरधारी राम गीत गीता दुबे गीता सिंह गुंजन शर्मा गुडविन मसीह गुनो सामताणी गुरदयाल सिंह गोरख प्रभाकर काकडे गोवर्धन यादव गोविन्द वल्लभ पंत गोविन्द सेन चंद्रकला त्रिपाठी चंद्रलेखा चतुष्पदी चन्द्रकिशोर जायसवाल चन्द्रकुमार जैन चाँद पत्रिका चिकित्सा शिविर चुटकुला ज़कीया ज़ुबैरी जगदीप सिंह दाँगी जयचन्द प्रजापति कक्कूजी जयश्री जाजू जयश्री राय जया जादवानी जवाहरलाल कौल जसबीर चावला जावेद अनीस जीवंत प्रसारण जीवनी जीशान हैदर जैदी जुगलबंदी जुनैद अंसारी जैक लंडन ज्ञान चतुर्वेदी ज्योति अग्रवाल टेकचंद ठाकुर प्रसाद सिंह तकनीक तक्षक तनूजा चौधरी तरुण भटनागर तरूण कु सोनी तन्वीर ताराशंकर बंद्योपाध्याय तीर्थ चांदवाणी तुलसीराम तेजेन्द्र शर्मा तेवर तेवरी त्रिलोचन दामोदर दत्त दीक्षित दिनेश बैस दिलबाग सिंह विर्क दिलीप भाटिया दिविक रमेश दीपक आचार्य दुर्गाष्टमी देवी नागरानी देवेन्द्र कुमार मिश्रा देवेन्द्र पाठक महरूम दोहे धर्मेन्द्र निर्मल धर्मेन्द्र राजमंगल नइमत गुलची नजीर नज़ीर अकबराबादी नन्दलाल भारती नरेंद्र शुक्ल नरेन्द्र कुमार आर्य नरेन्द्र कोहली नरेन्‍द्रकुमार मेहता नलिनी मिश्र नवदुर्गा नवरात्रि नागार्जुन नाटक नामवर सिंह निबंध नियम निर्मल गुप्ता नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’ नीरज खरे नीलम महेंद्र नीला प्रसाद पंकज प्रखर पंकज मित्र पंकज शुक्ला पंकज सुबीर परसाई परसाईं परिहास पल्लव पल्लवी त्रिवेदी पवन तिवारी पाक कला पाठकीय पालगुम्मि पद्मराजू पुनर्वसु जोशी पूजा उपाध्याय पोपटी हीरानंदाणी पौराणिक प्रज्ञा प्रताप सहगल प्रतिभा प्रतिभा सक्सेना प्रदीप कुमार प्रदीप कुमार दाश दीपक प्रदीप कुमार साह प्रदोष मिश्र प्रभात दुबे प्रभु चौधरी प्रमिला भारती प्रमोद कुमार तिवारी प्रमोद भार्गव प्रमोद यादव प्रवीण कुमार झा प्रांजल धर प्राची प्रियंवद प्रियदर्शन प्रेम कहानी प्रेम दिवस प्रेम मंगल फिक्र तौंसवी फ्लेनरी ऑक्नर बंग महिला बंसी खूबचंदाणी बकर पुराण बजरंग बिहारी तिवारी बरसाने लाल चतुर्वेदी बलबीर दत्त बलराज सिंह सिद्धू बलूची बसंत त्रिपाठी बातचीत बाल कथा बाल कलम बाल दिवस बालकथा बालकृष्ण भट्ट बालगीत बृज मोहन बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष बेढब बनारसी बैचलर्स किचन बॉब डिलेन भरत त्रिवेदी भागवत रावत भारत कालरा भारत भूषण अग्रवाल भारत यायावर भावना राय भावना शुक्ल भीष्म साहनी भूतनाथ भूपेन्द्र कुमार दवे मंजरी शुक्ला मंजीत ठाकुर मंजूर एहतेशाम मंतव्य मथुरा प्रसाद नवीन मदन सोनी मधु त्रिवेदी मधु संधु मधुर नज्मी मधुरा प्रसाद नवीन मधुरिमा प्रसाद मधुरेश मनीष कुमार सिंह मनोज कुमार मनोज कुमार झा मनोज कुमार पांडेय मनोज कुमार श्रीवास्तव मनोज दास ममता सिंह मयंक चतुर्वेदी महापर्व छठ महाभारत महावीर प्रसाद द्विवेदी महाशिवरात्रि महेंद्र भटनागर महेन्द्र देवांगन माटी महेश कटारे महेश कुमार गोंड हीवेट महेश सिंह महेश हीवेट मानसून मार्कण्डेय मिलन चौरसिया मिलन मिलान कुन्देरा मिशेल फूको मिश्रीमल जैन तरंगित मीनू पामर मुकेश वर्मा मुक्तिबोध मुर्दहिया मृदुला गर्ग मेराज फैज़ाबादी मैक्सिम गोर्की मैथिली शरण गुप्त मोतीलाल जोतवाणी मोहन कल्पना मोहन वर्मा यशवंत कोठारी यशोधरा विरोदय यात्रा संस्मरण योग योग दिवस योगासन योगेन्द्र प्रताप मौर्य योगेश अग्रवाल रक्षा बंधन रच रचना समय रजनीश कांत रत्ना राय रमेश उपाध्याय रमेश राज रमेशराज रवि रतलामी रवींद्र नाथ ठाकुर रवीन्द्र अग्निहोत्री रवीन्द्र नाथ त्यागी रवीन्द्र संगीत रवीन्द्र सहाय वर्मा रसोई रांगेय राघव राकेश अचल राकेश दुबे राकेश बिहारी राकेश भ्रमर राकेश मिश्र राजकुमार कुम्भज राजन कुमार राजशेखर चौबे राजीव रंजन उपाध्याय राजेन्द्र कुमार राजेन्द्र विजय राजेश कुमार राजेश गोसाईं राजेश जोशी राधा कृष्ण राधाकृष्ण राधेश्याम द्विवेदी राम कृष्ण खुराना राम शिव मूर्ति यादव रामचंद्र शुक्ल रामचन्द्र शुक्ल रामचरन गुप्त रामवृक्ष सिंह रावण राहुल कुमार राहुल सिंह रिंकी मिश्रा रिचर्ड फाइनमेन रिलायंस इन्फोकाम रीटा शहाणी रेंसमवेयर रेणु कुमारी रेवती रमण शर्मा रोहित रुसिया लक्ष्मी यादव लक्ष्मीकांत मुकुल लक्ष्मीकांत वैष्णव लखमी खिलाणी लघु कथा लघुकथा लतीफ घोंघी ललित ग ललित गर्ग ललित निबंध ललित साहू जख्मी ललिता भाटिया लाल पुष्प लावण्या दीपक शाह लीलाधर मंडलोई लू सुन लूट लोक लोककथा लोकतंत्र का दर्द लोकमित्र लोकेन्द्र सिंह विकास कुमार विजय केसरी विजय शिंदे विज्ञान कथा विद्यानंद कुमार विनय भारत विनीत कुमार विनीता शुक्ला विनोद कुमार दवे विनोद तिवारी विनोद मल्ल विभा खरे विमल चन्द्राकर विमल सिंह विरल पटेल विविध विविधा विवेक प्रियदर्शी विवेक रंजन श्रीवास्तव विवेक सक्सेना विवेकानंद विवेकानन्द विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक विश्वनाथ प्रसाद तिवारी विष्णु नागर विष्णु प्रभाकर वीणा भाटिया वीरेन्द्र सरल वेणीशंकर पटेल ब्रज वेलेंटाइन वेलेंटाइन डे वैभव सिंह व्यंग्य व्यंग्य के बहाने व्यंग्य जुगलबंदी व्यथित हृदय शंकर पाटील शगुन अग्रवाल शबनम शर्मा शब्द संधान शम्भूनाथ शरद कोकास शशांक मिश्र भारती शशिकांत सिंह शहीद भगतसिंह शामिख़ फ़राज़ शारदा नरेन्द्र मेहता शालिनी तिवारी शालिनी मुखरैया शिक्षक दिवस शिवकुमार कश्यप शिवप्रसाद कमल शिवरात्रि शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी शीला नरेन्द्र त्रिवेदी शुभम श्री शुभ्रता मिश्रा शेखर मलिक शेषनाथ प्रसाद शैलेन्द्र सरस्वती शैलेश त्रिपाठी शौचालय श्याम गुप्त श्याम सखा श्याम श्याम सुशील श्रीनाथ सिंह श्रीमती तारा सिंह श्रीमद्भगवद्गीता श्रृंगी श्वेता अरोड़ा संजय दुबे संजय सक्सेना संजीव संजीव ठाकुर संद मदर टेरेसा संदीप तोमर संपादकीय संस्मरण संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018 सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन सतीश कुमार त्रिपाठी सपना महेश सपना मांगलिक समीक्षा सरिता पन्थी सविता मिश्रा साइबर अपराध साइबर क्राइम साक्षात्कार सागर यादव जख्मी सार्थक देवांगन सालिम मियाँ साहित्य समाचार साहित्यिक गतिविधियाँ साहित्यिक बगिया सिंहासन बत्तीसी सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध सीताराम गुप्ता सीताराम साहू सीमा असीम सक्सेना सीमा शाहजी सुगन आहूजा सुचिंता कुमारी सुधा गुप्ता अमृता सुधा गोयल नवीन सुधेंदु पटेल सुनीता काम्बोज सुनील जाधव सुभाष चंदर सुभाष चन्द्र कुशवाहा सुभाष नीरव सुभाष लखोटिया सुमन सुमन गौड़ सुरभि बेहेरा सुरेन्द्र चौधरी सुरेन्द्र वर्मा सुरेश चन्द्र सुरेश चन्द्र दास सुविचार सुशांत सुप्रिय सुशील कुमार शर्मा सुशील यादव सुशील शर्मा सुषमा गुप्ता सुषमा श्रीवास्तव सूरज प्रकाश सूर्य बाला सूर्यकांत मिश्रा सूर्यकुमार पांडेय सेल्फी सौमित्र सौरभ मालवीय स्नेहमयी चौधरी स्वच्छ भारत स्वतंत्रता दिवस स्वराज सेनानी हबीब तनवीर हरि भटनागर हरि हिमथाणी हरिकांत जेठवाणी हरिवंश राय बच्चन हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन हरिशंकर परसाई हरीश कुमार हरीश गोयल हरीश नवल हरीश भादानी हरीश सम्यक हरे प्रकाश उपाध्याय हाइकु हाइगा हास-परिहास हास्य हास्य-व्यंग्य हिंदी दिवस विशेष हुस्न तबस्सुम 'निहाँ' biography dohe hindi divas hindi sahitya indian art kavita review satire shatak tevari undefined