रविवार, 10 फ़रवरी 2013

सुरेन्द्र कुमार पटेल की लघुकथा - सेकण्डहैण्ड

image
॰सेकण्डहैण्ड॰
सब्जीमंडी की कई कतारों को रौंदते हुए मेरे पांव अचानक सेकण्डहैण्ड कपड़ों
के ठेले के सामने रुक जाते हैं ।दुकानदार बगैर मुझसे कुछ पूछे ही जींस के
पैंटों पर अपने हाथों का नर्म स्पर्श देते हुए उन्हें फैलाता जाता है
।रंगाई और इस्त्री के बाद उसकी यह तीसरी युक्ति है जिससे सेकण्डहैण्ड
कपड़े भी बिकने के लिए नये की तरह चहक उठते हैं ।दुकानदार मेरी आंखों में झांकता है
।मैं जेब में हाथ डाले विचित्र सी मुद्रा में स्तब्ध खड़ा मुस्कुरा देता
हूँ ।वह पूछता है -कौन सा पैक कर दूँ, बाबूजी ।मैं कुछ नहीं बोलता ।वह
पलटकर और भी कपड़े दिखाने लगता है ।उन्हीं कपड़ों में से एक जोड़ा मेरे बाजू
से सटा आदमी अपने लिए चुनकर रख लेता है ।मैं नि:शब्द देखता रहता हूँ ।वह
मेरे बाजू से सटे आदमी से कोई भाव-ताव नहीं करता ।शायद सोचता है -वह तो
खरीद ही चुका ।असली चुनौती तो गंजे को कंघी बेचने में है ।कपड़ों के कई
जोड़े दिखा लेने के बाद वह मुझसे फिर पूछता है -यह ठीक रहेगा बाबूजी ? मैं
अपने शरीर का भार पंजों पर डालता हुआ दाएं-बाएं घूम जाता हूँ ।बीच-बीच
में मेरी मुस्कुराहट उसकी आशा को मरने नहीं देती ।उसे लगा होगा -मेरी
पसन्द के कपड़े अभी उसने दिखाया ही नहीं ।वह कुछ और कपड़े ठेले पर बिखेर
देता है ।बाजू से सटा आदमी स्थिर हो गया है ।उसकी अंगुलियां सिर्फ उसके
चुने कपड़ों की बारीकी परखने में व्यस्त हैं ।वह बार-बार सिर घुमाकर
दाएं-बाएं , आगे-पीछे देखकर सूचित करना चाहता है -उसे जल्दी है ।दुकानदार
उसे कोई भाव नहीं देता ।उससे एकबारगी पूछता भर है -और कुछ चाहिए ? वह
'ना' में सिर्फ सिर हिला देता है ।

अब तक वह मुझसे ज्यादा आशा नहीं रखता मगर हिम्मत भी नहीं हारता । सुन्दर
कपड़ों का एक जोड़ा मेरी तरफ करके जैसे वह अंतिम बार पूछ रहा है वैसी
मुद्रा बनाते हुए पूछता है -इसे रख दूँ बाबूजी ? अच्छे हैं और दाम भी कम
लग जाएंगे ।मैं भी समझ जाता हूँ यह उसका अंतिम प्रयत्न है ।इससे ज्यादा
वह कर भी क्या सकता था ।पंजों के बल उचकते हुए मैंने कहा -मैं सेकण्डहैण्ड
चीजें यूज नहीं करता भाई ! वह झट अपना चेहरा मेरे बाजू से सटे आदमी पर
टिका देता है ।मगर वह आदमी भी मेरे साथ ही आगे बढ़ जाने के लिए समकोण पर
अपने पांव मोड़ देता है ।एकबारगी पीछे मुड़कर देखता हूँ -दुकानदार की
आँखें अब भी मेरा पीछा कर रही हैं और मैं विजित होने का भाव ढोता आगे बढ़ा
जाता हूँ ।

-0-

सुरेन्द्र कुमार पटेल
वार्ड क्रमांक-4 ,ब्योहारी जिला- शहडोल म0प्र0
484774
email:
surendrasanju.02@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------