शनिवार, 2 फ़रवरी 2013

मोतीलाल की कविता - संस्कार

माँ, तुमने चलते वक्त विदाई में
जो कुछ मेरे कानों में उड़ेला था
वही कुछ उड़ेल दिया है मैंने
अपनी बेटी की विदाई में ।

माँ, पिछले समय
तुमने जो गहने मुझे दी थी
बड़े दुलार के साथ
जिसे शायद तुझे
तेरी माँ ने दी होगी
आज वही गहने
मैंने अपनी बेटी को दे दी
बड़े दुलार के साथ ।

माँ, तुमने जो सहा था
दुख की कालिमा
मेरे बाबा के साथ
आज वही कुछ
अपनी बेटी की विदाई में
देते हुए बड़ा डर लगता है
और खो जाता है मेरा चेहरा
अपने ही चेहरे की रेखाओं के भीतर ।

आज जब मेरी बेटी की बेटी की सगाई
होने वाली है
मेरे हाथ-पाँव थरथराने लगे हैं
बूढ़ी हड्डियां चरमराने लगी है
और याद आने लगी हो माँ तुम
जबकि तुम तो अब ऊपर कहीं हो
और मैं वह कोना ढूंढ रही हूँ
अपने ही घर में ताकि छुपा दूँ
वही कुछ देने का सिलसिला ।

हाँ माँ
इधर बहुत कुछ बदलता गया है
वक्त के साथ-साथ इस नवयुग में
तुम्हारी तरह के विचारों को
अब दकियानूसी समझा जाता है
इसलिए मैं नहीं चाहती
कि शामिल हो लूँ
अपनी पोती की शादी में ।

मन के भीतर
यही डर समाया है
कि तुम्हारी चीजों के साथ-साथ
मुझे भी कहीं
फेंक न दें
दकियानूसी कुड़े के ढेर में ।

* मोतीलाल/राउरकेला
* 9931346271

6 blogger-facebook:

  1. BAHUT HI SAMVEDNAATMAK..MAARMIK CHITRAN KARTI HUI RACHNAA...BADHAAI ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर भावो को रचना में सजाया है आपने.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahur sachchhi,aur marmik hai, dar swavawik dai, aur hamari umr ke har kisii ke man men hai.bahut khub.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही भावपूर्ण एवं सार्थक अभिव्यक्ति. बधाई
    शंकर लाल

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------