मोहसिन खान की 2 ग़ज़लें

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

ग़ज़ल-1

आज इश्क़ का हरेक हिसाब होगा ।

किसी का चेहरा बेनक़ाब होगा ।

 

उसके वादे और न आने के बहाने,

आँखों में उसके कोई ख़ाब होगा ।

 

हम जब भी मिले ख़ुद को न समझा पाए,

उसके इम्तेहान में कौन क़ामयाब होगा ।

 

रात भर रोया है परिन्दा छत पर मेरी,

कल रात शबाब पर महताब होगा ।

 

तुम्हारे गुनाहों को ‘तन्हा’ माफ़ करते हैं,

यही सोचकर के एक सवाब होगा

 

ग़ज़ल-2

यूँ तो मेरी हरेक अदा से उसे प्यार था ।

ख़ोफ़े बदनामी, साथ रहना दुश्वार था ।

 

वो एक शख़्स जो अपनी दुनिया का था,

जो मेरी तरह इस दुनिया से बेज़ार था ।

 

दो रोटी के लिए काभी न की सौदागिरी,

कितने रात-दिन भूखा था, बेकार था ।

 

ज़माने बाद दिखा तो मज़दूरी करते हुए,

बच्चा मेरी जमात का जो होशियार था ।

 

तुम तो ख़ुदावाले हो क्यों मैख़ाने आये ।

‘तन्हा’ तो पैदाइशी ही गुनाहगार था ।

 

मोहसिन ‘तन्हा’

अलीबाग (महाराष्ट्र) 09860657970

khanhind01@gmail.com

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

4 टिप्पणियाँ "मोहसिन खान की 2 ग़ज़लें"

  1. दोनो गज़ल अच्छी है, बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. धन्यवाद ! गिरिराज जी यह आपकी हौसला अफ़जाई है, वरना कहाँ हम इस क़ाबिल हैं ।
    मोहसिन 'तन्हा'

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेनामी4:28 pm

    bahut achchhi gazal hai..Dr. dhirendra kerwal

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेनामी3:44 pm

    bahot khubsurat

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.