मंगलवार, 26 मार्च 2013

सुधीर मौर्य 'सुधीर' की 2 लघुकथाएँ

image

दंगे की लूट

दंगाई आग लगते हुए बाज़ार में घुसे और लूटमार करने लगे।

जलेबी खाने का शौकीन बारह साला पिंटू इस अफरा-तफरी में छन्नू हलवाई की दूकान से जलेबी का थाल ले कर रफूचक्कर हुआ। छन्नू ने भी पूरी ताकत से पिंटू का पीछा किया और जलेबी का थाल बरामद कर लिया।

छन्नू के लौट आने तक उसकी दूकान के साथ-साथ बाजार की साड़ी दुकानें लुट चुकी थी। उसे देख कर उसका पडोसी दूकानदार शंकर जिसका एक हाथ दंगाईयों ने तोड़ दिया था, कराहते हुए बोला- क्या छन्नू साडी दूकान छोड़कर एक जलेबी के थाल के पीछे

भाग खड़े हुए।

जलेबी के थाल को वापस दूकान में सजाते हुए छन्नू बोल तभी मेरी पूरी दूकान में ये जलेबियाँ बाख गयी नहीं तो मै भी तुम्हारी तरह पूरी दूकान लुट्वाता और साथ में बांह भी तुड़वाता

 

बीवी का भाई

दो लुटेरों में लूट के माल को लेकर झगड़ा हो गया। झगड़ा इतना बढ़ा की एक लुटेरे ने अपने पिस्तौल से दुसरे पर गोली चला दी।

गोली सनसनाती हुई दूसरे लुटेरे के कान को हवा देती हुई निकल गयी। पहला हँसते हुए बोला खैरकर तू मेरी बीवी का भाई है नहीं तो गोली सीधे सर से टकराती। चल तेरा एक हिस्सा और मेरा तीन हिस्सा।

कुछ दिन बाद वापस लूट के माल को ले के वो फिर झगड़ बैठे। अबकी बार पिस्तौल दुसरे लुटेरे के हाथ में थी। वो पहले के सीने में गोली मरते हुए बोला तुझसे कितनी बार कहा अपनी बहन को मेरी बीवी बना दे। पर तू मेरी बात मजाक में टालता रहा। न तीन न एक अब सारा हिस्सा मेरा।

सुधीर मौर्य 'सुधीर'

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------