कोनिक दोशी की कविता - खोया बचपन

clip_image002

खोया बचपन

कुछ समय पहले जिस हृदय में 

चंचलता की लहरें तूफान मचाती थीं,

आज वही हृदय सागर- सा गंभीर पड़ा है। 

जिस मन पर लगे थे पंख 

चाँद तारों तक उड़ जाने के लिए,

वो मन, लाचार, कटे पंखों के साथ बैठा है।

जिन आँखों की पलकों पर 

सपने हजारों सवार होते थे,

आज वो पलकें बंद नहीं हो रहीं ।

सिसकियों की आवाज़ कम नहीं हो रही 

बंद हो गए वो कान जो इस दर्द को सुनते थे।

सुनकर उसके दर्द को वे भी खूब रोते थे।

हृदय पर क्रूरता का पत्थर गिरा था।

जब इन काले हाथों ने उन मासूम हाथों से 

छीन  ली थी कलम और एक हथौड़ा हाथ में धरा था।   

दब गया था बचपन उन जिम्मेदारियों के नीचे।

छिप गई वो मासूमियत खेत के खलिहानों के पीछे।

पूछा उस बाल मज़दूर से किसी ने 

पकड़कर उसके हाथों को-

क्या तुम बच्चे हो?

सोचने लगा वो बाल मज़दूर 

जो भूल गया था अपना बचपन।

रुका वो कई पलों तक फिर बोला अपनी आवाज़ में

जो दब गई थी समय की मार से।

आवाज़ में बहुत दर्द था, न जाने कौन-सा भय था।

बोला आवाज़ को धीमी कर-

क्या करोगे जानकार?

                             -कोनिक दोशी

-----------

-----------

2 टिप्पणियाँ "कोनिक दोशी की कविता - खोया बचपन"

  1. कोनिक दोशी जी,
    'खोया बचपन' कविता पढ कर बहुत दुःख, पीडा हुई। भारत के सुंदर चेहरे पर बाल मजदूरी काला धब्बा है, उसका दूर होना भी उतना ही मुश्किल। 'क्या करोगे जानकार?' यह कविता की अंतिम पंक्तियां बाल मजदूरों की मजबूरी और निराशा को बयां करती है। इस स्थिति को स्वीकारना मुश्किल है पर क्या करे वास्तविकता जो ठहरी।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद आपकी टिप्पणी अच्छी लगी... :)

      हटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.