रविवार, 31 मार्च 2013

प्रभुदयाल श्रीवास्तव के दो बाल गीत - सूरज भैया, सात रोजाना

सूरज भैया


              अम्मा बोली सूरज भैया जल्दी से उठ जाओ।
              धरती के सब लोग सो रहे जाकर उन्हें उठाओ।।  
 
             मुर्गे थककर हार गये हैं कब से चिल्ला चिल्ला।
             निकल घोंसलों से गौरैयां मचा रहीं हैं हल्ला।।
             तारों ने मुँह फेर लिया है तुम मुंह धोकर जाओ।।
            धरती के सब लोग सो रहे जाकर उन्हें उठाओ।।  
 
             पूरब के पर्वत की चाहत तुम्हें गोद में ले लें।
             सागर की लहरों की इच्छा साथ तुम्हारे खेलें।।
             शीतल पवन कर रहा कत्थक धूप गीत तुम गाओ।।
             धरती के सब लोग सो रहे जाकर उन्हें उठाओ।।  


 image


             सूरज मुखी कह रहा" भैया अब जल्दी से  आएं।
             देख आपका सुंदर मुखड़ा हम भी तो खिल जायें।।'
            जाओ बेटे जल्दी से जग के दुख दर्द मिटाओ
            धरती के सब लोग सो रहे जाकर उन्हें उठाओ।।  
 
            नौ दो ग्यारह हुआ अंधेरा कब से डरकर भागा।
            तुमसे भय खाकर ही उसने राज सिंहासन त्यागा।।
            समर क्षेत्र में जाकर दिन पर अपना रंग जमाओ।।
           धरती के सब लोग सो रहे जाकर उन्हें उठाओ।।  
 
            अंधियारे से क्यों डरना कैसा उससे घबराना। 
            जहां उजाला हुआ तो निश्चित है उसका हट जाना।।
            सोलह घोड़ों के रथ चढ़कर निर्भय हो तुम जाओ।।
           धरती के सब लोग सो रहे जाकर उन्हें उठाओ।।  
        
           
           --


             

निश्चित सात रोज़ाना


                    हार्न‌ बजाकर बस का आना,
                    निश्चित समय सात रोज़ाना।

                            चौराहों पर सजे सजाये,
                            सारे बच्चे आँख गड़ाये,
                            नज़र सड़क पर टिकी हुई है.,
                            किसी तरह से बस आ जाये।
                            जब आई तो मिला खज़ाना।
                            निश्चित समय सात रोज़ाना।

                      सात बजे सूरज आ जाता,
                      छत आँगन से चोंच लड़ाता,
                       कहे पवन से नाचो गाओ,
                      मंदिर में घंटा बजवाता।
                       कभी न छोड़े हुक्म बज़ाना।
                        निश्चित समय सात रोज़ाना।
      
                           सात बजे आ जाता ग्वाला,
                           दूध नापता पानी वाला,
                           मम्मी पापा पूछा करते,
                           रास्ते में मिलता क्या नाला।
                           न ,न करके सिर मटकाना।
                          निश्चित समय सात रोज़ाना।

                       सात बजे दादा उठ जाते,         
                     "भेजो चाय"यही चिल्लाते,
                      कभी समय पर नहीं मिली तो,
                      सारे घर को नाच नचाते।
                     बहुत कठिन है उन्हें मनाना।
                     निश्चित समय सात रोज़ाना।

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------