रविवार, 31 मार्च 2013

पूरन सरमा का व्यंग्य - मुझसे भला न कोय

व्‍यंग्‍य

मुझसे भला न कोय

पूरन सरमा

हो सकता है दुनिया में और भी भले लोग हों, लेकिन मैंने इसे खोजने की आवश्‍यकता नहीं समझी। मुझे प्रारम्‍भ से ही लगता रहा कि तमाम ब्रह्माण्‍ड में मुझसे भला और कोई नहीं है। यह बात इसलिए भी सही है कि लोग मेरे बारे में यही कहते पाये जाते हैं कि बेचारा भला आदमी है। भले आदमी के मुझमें सभी गुण विद्यमान हैं। मेरे सामने किसी की यह हिम्‍मत नहीं होती कि मुझे गलत आदमी बता दे। बुरे आदमी की तो हालत यह है कि उसे खोजने की आवश्‍यकता ही नहीं है, एक ढ़ूँढ़ो हजार मिलते हैं। कदम-कदम पर डेरा डाले बैठे हैं। लेकिन मेरा जैसा भला अन्‍यत्र मिलना दुर्लभ है। यह कहिये कि यह प्रजाति लुप्‍तप्रायः हो गई है। मेरी राय में तो मिस यूनिवर्स की तरह मिस्‍टर भला अथवा मिस्‍टर जेन्‍टलमैन प्रतियोगिता हो तो उसका ताज पहनने का मौका ऊपर वाले की कृपा से मुझे ही मिलेगा।

मेरे भले होने के अनेक कारण हैं। पहला कारण तो मेरी आर्थिक विषमता है। वस्‍तुस्‍थिति यह है कि आर्थिक विषमता में आदमी अपराध की ओर बढ़ता है लेकिन मैंने इस अभिशाप को भले रूप में अपनाया तथा दयनीय हो जाने से भलेपन का तमगा हर कोई देने लगा, हो सकता था कि यदि मैं धनाढ्‌य होता तो फिर शायद मेरा भला बने रहना कठिन था। धनवान का सारा आचरण ही बदल जाता है। गरीब होने से मैं आचरण से शुद्ध बना रहा। कहावत भी है कि ‘गरीब की जोरू सबकी भाभी' भले आदमी की दशा आज यही है। सत्‍य को नहीं छिपाना भी भलाई में माना गया है और मैं ही पहला व्‍यक्‍ति हूँ, जिसने यह बात सार्वजनिक रूप से स्‍वीकार की है। अन्‍यथा आजकल तो गरीबी के सताये भी टेढ़ी चाल चलने लगे हैं, जिसमें गरीबी की सीमारेखा के नीचे वालों के तो नखरे ही न्‍यारे हैं। दो रूपये किलो का गेहूँ और तीन रूपये का चावल खाकर मद में चूर हैं।

मौटे तौर पर मेरे भले होने का दूसरा कारण मेरा शारीरिक रूप से कमजोर होना भी है। यानि धनबल के साथ-साथ मेरे पास अपना भुजबल भी नहीं है। भुजाओं में ताकत आज के युग की परम आवश्‍यकता है। चोरी, डकैती तथा अन्‍य अपराध इसी की देन हैं। भुजबल का तो अब उग्रवाद के रूप में अन्‍तर्राष्‍ट्रीयकरण हो चुका है। मैंने प्रारम्‍भ में अच्‍छे-से-अच्‍छा च्‍यवनप्राश खाया, लेकिन मैं स्‍वास्‍थ्‍य नहीं बना पाया और अन्‍त में इस निरीहता का नाम भले मानुष के रूप में मेरे साथ जुड़ गया। शारीरिक अक्षमता भला आदमी बनने में काफी कारगर रही, उसी की बदौलत आज मैं मनोबल के साथ यह कह पाता हूँ कि मुझसे भला न कोय। मेरे शरीर की संरचना ही ऐसी है कि जो भी देखता है वह एकदम ही मुझे भला आदमी घोषित कर देता है।

2

इसलिए भलमनसाहत को मैंने वरदान के रूप में अंगीकार किया और उसका सुखद परिणाम यह है कि मैं चाहे विवशता में ही सही भला आदमी बना हुआ हूँ।

भले आदमी बनने की विवशताएँ कुछ भी हो सकती हैं, लेकिन इसमें मुझे कोई बुराई नजर नहीं आती। अब भला रूप ही मेरी हर प्रकार से सहायता करता है। मैं शालीनता को तहेदिल से अपनाये हुए हूँ, सबसे अच्‍छा व्‍यवहार रखता हूँ, मीठा बोलता हूँ, तो मेरे काम भी बन ही जाते हैं। जब काम बन जाता है, उल्‍लू सीधा हो जाता है तो भला बने रहने में भला आपत्ति क्‍या है ? मौहल्‍ले में सब मेरा सम्‍मान करते हैं, ऐसा मुझे लगता है। एक-दो मित्रों ने मुझसे कहा भी कि भलापन बेवकूफी में गिना जाता है, इसीलिए इसे त्‍यागने में भलाई है। लेकिन उन्‍हें अपनी विवशताएँ बताना मैं अपनी बेवकूफी मानता हूँ। भले आदमी की अपनी मुसीबतें हो सकती हैं, लेकिन यह इमेज बनाने के बहुत काम आता है। महिलायें मानती हैं कि भला आदमी है, इससे बात करने में कोई हर्ज नहीं है। इसलिए इस क्षेत्र में थोड़ा-बहुत स्‍कोप मुझे कई बार आशा की किरण की तरह कौंधता दिखाई देता है।

चाहे जो हो, भलापन मैं छोड़ूँगा नहीं। क्‍योंकि संसार में जब मुझसे भला दूसरा कोई है ही नहीं तो गिनीज बुक में मेरा नाम दर्ज भले आदमी के रूप में हो जाये, इसकी जुगाड़ में मैं आजकल लगा हुआ हूँ। भला आदमी खोजने मैं जाऊँगा नहीं, क्‍योंकि दूसरा मिल गया तो ‘मुझसे भला न कोय' का अर्थ क्‍या रह जायेगा।

---

(पूरन सरमा)

124/61-62, अग्रवाल फार्म,

मानसरोवर, जयपुर-302 020,

(राजस्‍थान)

फोनः-0141-2782110

2 blogger-facebook:

  1. अपने जीने के लिए ऐसी खुशफहमी में रहना अच्छा है,

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेनामी11:01 am

    अच्छा व्यंग्य कसा है| भले आदमी पर|
    सुन्दर

    उमेश मौर्य

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------