एस. के. पाण्डेय के दोहे

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

दोहे(१२)


सुख सागर उर में बसत तदपि दीन सब लोग ।
यसकेपी अचरज महा देखत यह संयोग ।।

हेम घड़ा घर में पड़ा नहीं जान पहिचान ।
जिमि डोलत घर-घर महा मूरख अति धनवान ।।

तिमि सबके उर राम हैं बिना जान पहिचान ।
यसकेपी सब जग दुखी मूरख महा समान ।।

निज उर अंतर राम से योगिन को पहिचान ।
याते रहते चैन से करत नहीं कछु कान ।।

नदी उमगि जल लै चली सागर पहुँची जाय ।
यसकेपी सागर लखत नदी गई हेराय ।।

सागर के जल बहुत है नदी पास है थोर ।
सागर कहूँ न जात है नदी जाय सब ओर ।।

सागर ऐसा एक है देखत नदी की ओर ।
यसकेपी न मिलि सकैं नदियाँ बंधन तोर ।।

कलियुग जग हर्षित चला लै अपुनो हथियार ।
यसकेपी हरने लगा बुधि बल धरम बिचार ।।

मूढ़ बने ज्ञानी सभी ज्ञानी हो गए मूढ़ ।
यसकेपी देखत खड़े दर-दर पे बहु ऊढ़ ।।

शुभ मत सब खोजन लगे यसकेपी तब ठोर ।
जाँय कहाँ सब जग भरे अशुभ मते चहु ओर ।।

कुतर्क कुमति कि बहि चली यसकेपी बड़ि वायु ।
सुमति पलायन करि चली क्षीण सकल भे आयु ।।

सदाचार नहि कहुँ मिले बारिस में ज्यों धूरि ।
अनाचारि कुबिचारि की होय प्रशंसा भूरि ।।

यसकेपी होने लगा जग ऐसा प्रचार ।
झूँठे मत साचे भये लोगन तजे विचार ।।

राम नाम यक साच है बाकी सब बकवास ।
मूल मंत्र ज्ञानिन मते मूरख को परिहास ।।
---------
डॉ. एस. के. पाण्डेय,
समशापुर (उ.प्र.) ।

ब्लॉग: श्रीराम प्रभु कृपा: मानो या न मानो 
URL1: http://sites.google.com/site/skpvinyavali/
   
              *********

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "एस. के. पाण्डेय के दोहे"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.