मंगलवार, 19 मार्च 2013

अजय कुमार स्मृति युवा कविता प्रतियोगिता एवं सम्मान समारोह का आयोजन

अजय कुमार स्मृति युवा कविता प्रतियोगिता एवं सम्मान समारोह का आयोजन

image

नई दिल्ली। 16 मार्च,2013, यहां गांधी शांति प्रतिष्ठान में अक्षित लैंगवेज सर्विस एवं हम सब साथ साथ पत्रिका के सौजन्य से कन्या भ्रूण हत्या पर अजय कुमार स्मृति युवा कविता प्रतियोगिता एवं सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। इसमें देश भर से एक प्रतियोगिता के माध्यम से चुनी गई लगभग 10 प्रतिभाओं को आमंत्रित किया गया और उन्हें नकद राशि, स्मृति चिन्ह व प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर युवा प्रतिभाओं ने अपनी रचनाओं का सुंदर पाठ भी किया। पुरस्कृत प्रतिभाओं में अंजीव अंजुम (दौसा, राजस्थान)-प्रथम, प्रमोद कुमार सतीश (झांसी, उ.प्र.)-द्वितीय, लक्ष्मी नारायण शर्मा (लखनऊ, उ.प्र.) व पूजा भाटिया ‘प्रीत’ (इंदौर, म.प्र.)-तृतीय सहित संगीता सिंह तोमर, (नई दिल्ली), उमेश कुमार सिंह (गोंडा, उ.प्र.), विश्व दीपक जैन (छतरपुर, म.प्र.), अशोक कुमर (सोनीपत, हरियाणा) एवं भुवनेश सिंघल व इरफान राही (दिल्ली)  के नाम विशेष उल्लेखनीय रहे। इस अवसर पर हम सब साथ साथ पत्रिका द्वारा अपने वार्षिक प्रतिभा सम्मान का वितरण भी किया गया। जिसमें युवा लेखिका नौएडा की श्रीमती अर्चना चतुर्वेदी को युवा प्रतिभा सम्मान एवं भोपाल के प्रसिद्ध साहित्यकार डा. सुशील गुरू को उनकी जीवन पर्यन्त की साहित्यिक उपलब्धियों के लिये लाइफ टाइम अवीवमेंट्स अवार्ड से सम्मानित किया गया। 

इस अवसर पर उपर्युक्त प्रतिभाओं ने अपनी रचनाओं का सुंदर ढंग से पाठ भी किया। 

कार्यक्रम का प्रारम्भ मंचासीन अतिथियों के स्वागत के साथ हुआ इसके पश्चात हम सब साथ साथ के कार्यकारी संपादक श्री किशोर श्रीवास्तव, रेडियो सिंगर श्रीमती सुधा उपाघ्याय एवं छात्र दिव्यांशु ने भाईचारा गीत ‘इंसान का इंसान से हो भाईचारा, यही पैगाम हमारा’ प्रस्तुत किया तथा श्रीमती सुधा उपाघ्याय ने सुमधुर सरस्वती वंदना प्रस्तुत की। युवा कवयित्री व हम सब साथ साथ की सदस्य श्रीमती संगीता शर्मा ने कार्यक्रम के आयोजन की रूप रेखा प्रस्तुत की एवं सह आयोजक श्रीमती सोनाली मिश्रा एवं अरुण मिश्रा ने कार्यकम के उद्वेश्यों पर प्रकाश डाला एवं कार्यक्रम के आयोजन के पीछे के कारणों से सभी को अवगत कराया। 

उपर्युक्त कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित केंद्रीय समाज कल्याण बोर्ड के कार्यकारी निदेशक श्री सोहन कुमार झा ने युवा प्रतिभाओं की कला की प्रशंसा करते हुए कन्या भ्रण हत्या पर आयोजित कार्यक्रम की सराहना की व बेटियों को भी बेटो के बराबर प्यार व सम्मान देने की बात कही। कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि व राष्ट्रकिंकर के संपादक डा. विनोद बब्बर ने बेटियों के महत्व को रेखांकित करते हुए समाज व परिवार में उनके योगदान का उल्लेख किया और उन्हें बराबर का महत्व दिये जाने की वकालत की। इस अवसर पर अन्य विशिष्ट अतिथियों में आकाशवाणी के निदेशक श्री लक्ष्मी शंकर वाजपेयी, प्रसिद्ध व्यंग्य कवयित्री डा. सरोजिनी प्रीतम, केंद्रीय अनुवाद ब्यूरो के संयुक्त निदेशक श्री विनोद संदलेश,, प्रसिद्ध हास्य-व्यंग्यकार श्री सुभाष चंदर व हिंदी अकादमी, दिल्ली के प्रतिनिधि श्री चंदर सेन उपस्थित थे। 

कार्यक्रम का सराहनीय संचालन श्रीमती ज्योति सिंह ने किया व उनका साथ दिया हम सब साथ साथ की संपादक श्रीमती शशि श्रीवास्तव व समाज कल्याण के संपादक श्री किशोर श्रीवास्तव ने। 

कार्यक्रम का समापन कन्या भ्रूण हत्या पर एक आकर्षक नृत्य नाटिका से हुआ जिसे सर्वश्री अपूर्व अग्रवाल, सबा अली, नाज़िया खान, कादम्बरी और नेहा सिंह ने अत्यन्त आकर्षक ढंग से प्रस्तुत किया।

समारोह में दिल्ली एवं देश के विभिन्न हिस्सों से पधारे अनेक सुधिजनों व चर्चित साहित्यकारों तथा संपादकों ने कार्यक्रम को सफल बनाने में अपना विशेष योगदान दिया।

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

और दिलचस्प, मनोरंजक रचनाएँ पढ़ें-

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------