रविवार, 10 मार्च 2013

मोतीलाल की कविता - चाह

खोजता फिरता हूँ मैं यहाँ
शाम का सौन्दर्यपन
सुबह का ओस भींगा सवेरा ।

नहीं मिलती मुझे यहाँ
पीपल की छाँव
जीवन दायिनी स्वच्छंद हवा
न सरसों के पीले फूलों से अटा खेत
न चरवाहे की सुरीली तान
न बजती ही है
बैलों के गले में बंधी घंटियाँ ।

गायब हो गयी है यहाँ
पनघट की पनीहारनियाँ
आंगन के तुलसी में जल ढालती माँ
और गाय का रंभाना ।

तलाशने पर भी नहीं मिलते यहाँ
पड़ोसियों के रिश्ते के सुख
व अखाड़े की मधुर शाम ।

सबकुछ टूट गये हैं
यहाँ इस शहर में
और धकेला जाता हूँ बार-बार
कंक्रीट के इस जंगल में ।


* मोतीलाल/राउरकेला
* 9931346271

1 blogger-facebook:

  1. हर जगह का अपना एक अलग रंग है, अलग प्रकृति

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------