रविवार, 10 मार्च 2013

देवेन्द्र पाठक महरूम की ग़ज़ल

बारूद की सड़क है या क़हर की नदी है.

इंसानियत का मरघट ये बीसवीँ सदी है.

 

हर सिम्त ख़ूँ- खराबा, वहशत, दगा- दलाली;

दहशत ओ बेबसी से हर ज़ां लदी फदी है.

 

ख़ुदगर्ज़ ओहदे हैँ गुमराह है अगुआई;

अंजाम नेक़ियोँ का मिलता यहाँ बदी है.

 

शक़-शुब्हा,बदख़याली, आलम-ए-बदख़याली;

जीना है कमयक़ीँ अब मरने की ही जल्दी है.

 

वो पेड़ उखड़ने को 'महरूम' तयशुदा है;

अपनी जड़ेँ ज़मीँ से जिसने भी छोड दी है.

2 blogger-facebook:

  1. वो पेड़ उखड़ने को 'महरूम' तयशुदा है;

    अपनी जड़ेँ ज़मीँ से जिसने भी छोड दी है.

    आगे पढ़ें: रचनाकार: देवेन्द्र पाठक महरूम की ग़ज़ल http://www.rachanakar.org/2013/03/blog-post_9677.html#ixzz2NAFIncPL
    bahut khub

    उत्तर देंहटाएं
  2. पूरी की पूरी गज़ल लाजवाब है, क्या कहने !!

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------