राजीव आनंद की कविताएँ

मेरा घर
आंखे आज भी तकती है
उस तवील राह को
जिस पर चलकर मैं
अपने घर को छोड़ आया था
नजरों की हदों के पार
बादलों के बीच
नजर आता है अभी भी एक
दरवाजा
जो कभी खुला रहता था
पर अब बंद है
प्रतीत होता मेरा भ्रम है


खेल
छप्‍पर के छेद से
भूख से कुहकते हुए बच्‍चों ने
चांद से आती रोशनी को
कटोरे में छान लिया
पानी से आधे भरे कटोरे में
छोटे-छोटे कंकड़ों को रखकर
बच्‍चों ने खीर बना लिया
और
खाना-खाना खेलने लगे

चांद रोटी
कई दिनों से न देखा हो जिसने रोटी
अंतड़ियों में भूख से जिसके हो गया हो दर्द
उसे चांदनी की सर्द रातों में
कहां है दिखता सौंदर्य
गोलाकार चांद भी उसके लिए
फकत रोटी है और कुछ नहीं

कचरे का डब्‍बा
मौत को रूबरू देखकर
प्रतीत होती जिंदगी
कचरे का वो डब्‍बा
जिसमें बंद है
रिश्‍ता, प्‍यार, मोह, माया
मलबे में परिवर्तित होता
शरीर
जो बिखरा पड़ा है
बिस्‍तर पर

चार मुक्‍तक

सफल होने की हवस में
नैतिक मर्यादा छोड़ दी
सुंदर काया का फायदा उठाया
सफलता के कई कीर्तिमान तोड़ दी

शरीर एक धर्मशाला
आत्‍मा एक मुसाफिर
अन्‍तर्यात्रा एक तैयारी
चल देना किस्‍मत हमारी

कर्म में वासना न रहे तो
जीवन साधना बन जाती है
जनकल्‍याण में अपना कल्‍याण
परम उपलब्‍धि जीवन की कहलाती है

बछड़े ने अपनी माँ को
जोर से पुकारा माँ.....
बिरजुआ की मइया सब छोड़कर
दौड़ी गोहाल चली आयी

 

राजीव आनंद
प्रोफेसर कॉलोनी, न्‍यू बरंगड़ा, गिरिडीह
झारखंड़ 815301
मो. 9471765417                

-----------

-----------

0 टिप्पणी "राजीव आनंद की कविताएँ"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.