सोमवार, 15 अप्रैल 2013

मनोज 'आजिज़' की प्रस्तुति - साहित्यिक लतीफ़ा - सलिल को प्यास और समीर को गर्मी कैसी?

साहित्यिक लतीफ़ा 

------------------------

               -- मनोज 'आजिज़'

एक बार एक कवि सम्मेलन में डॉ बच्चन पाठक 'सलिल', हरे राम राय 'हंस' 'समीर' आदि वरिष्ठ कवि गण मौजूद थे । कवि सम्मेलन शुरू होने में कुछ देर थी पर कविगण मंचासीन हो चुके थे । गर्मी खूब थी । एक व्यक्ति पानी लेकर जा रहा था । डॉ 'सलिल' ने उस व्यक्ति को पानी पिलाने को कहा । इसी बीच 'समीर' जी जो हाथों से पंखा झेल रहे थे, फटाक से बोल पड़े -- '' 'सलिल' को प्यास कैसी ?''

डॉ 'सलिल' भी झपाक से उत्तर दिया -- '' समीर को गर्मी कैसी ?''

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------