देवेन्द्र कुमार पाठक के दोहत्थड़-दोहे

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

                                          

मदरीले दृग खोलती,     
भोर-वधू निँदियार;

ललछौँही छवि सोहती, 
सेँदुर भरे लिलार.               

छोड़ गाँव-घर चल पड़े,
चैतहरोँ के पाँव;            

जहाँ हाथ को काम है,           
वहाँ ठिकाना-ठाँव

टेसू हुए दिवालिए,   
मदिराए महुहार;   

खलिहानोँ के सिर टँगी,  
कर्ज़ोँ की तलवार.           

रात रही जब पहर भर,   
तब जागा महुहार;         

फूल झरे मदरस भरे,     
बीनेँ बीननहार.          

जीवन बारह-बाट हो,   
भटका मिली न राह;       

चैत -चित्त-चिंता जले, 
धुँधुआ  रही निग़ाह.     

दिन-दिन दूबर हो रहे ,   
नद-नदियोँ के अंग;       

धूप-पसीने मेँ उड़े,      
फागुन के सुख-रंग.               

~  ~  ~  ~

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

2 टिप्पणियाँ "देवेन्द्र कुमार पाठक के दोहत्थड़-दोहे"

  1. देवेन्द्र कुमार जी , बेहतरीन दोहे हैं, मज़ा आ गया

    उत्तर देंहटाएं
  2. dharmendra tripathi5:38 pm

    behatreen dohe hain.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.