सोमवार, 15 अप्रैल 2013

बच्चन पाठक 'सलिल' की लघुकथा - वह बहादुर वन-कन्या

लघुकथा 

वह बहादुर वन- कन्या 

------------------------------

                   -- डॉ बच्चन पाठक 'सलिल'

सन 1930 ईस्वी के आस-पास की बात है । चाईबासा में एक अंग्रेज डिप्टी कलेक्टर थे-मि. जेम्स । 

वे वन भ्रमण और वन्य-जीवन की फोटोग्राफी में बहुत रूचि लेते थे । 

एक दिन वे अपने सेवक सल्खू हांसदा के साथ राजनगर के पास के वन में घूम रहे थे । सल्खू के हाथ में एक कुल्हाड़ी थी । 

दोनों एक वृक्ष की छाया में सुस्ता रहे थे । अचानक अनुभवी सल्खू को एक झाड़ी हिलती हुई दिखाई दी । वह बोला- साहब, उठिए । झाड़ी में बाघ है । साहब अलसाए उठे । बाघ चिन्घारा और झाडी से निकला । इसके पूर्व कि वह हमला करता, एक तीर उसे लगा और वह कूदकर गिरा और मर गया । निशाना अचूक था । 

इसी समय एक मोटी, सांवली और स्वस्थ आदिवासी लड़की आई । उसके हाथ में धनुष था । वस्त्र के स्थान पर उसने कमर में किसी पशु की खाल लपेट रखी थी । 

वह इन दोनों को पास के गाँव में ले गई । मिट्टी के आठ दस घर ही थे । उसने एक पेय पिलाया । साहब ने स्फूर्ति का अनुभव किया । वह इन लोगों को चाईबासा-हाता मार्ग पर छोड़ गई । सल्खू को उसने गाँव का नाम भीम खांदा बताया (आज भी वह गाँव है) । सल्खू ने जेम्स को बताया कि महाभारत की हिडिम्बा इसी गाँव की बेटी थी । उसका विवाह भीम से हुआ था । आज भी यहाँ हिडिम्बा की पूजा होती है । 

लन्दन की एक पत्रिका में जेम्स का एक संस्मरण छपा -- '' दैट ब्रेभ फारेस्ट गर्ल वाज हिडिम्बा'' ( वह बहादुर वन कन्या हिडिम्बा थी ) 

पता - बाबा आश्रम, आदित्यपुर-२ 

        जमशेदपुर- १३ 

फोन- 0657/ 2370892

1 blogger-facebook:

  1. बेनामी9:51 pm

    मन को छूने वाली प्रेरणादायी रचना ।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------