सोमवार, 15 अप्रैल 2013

प्रभुदयाल श्रीवास्तव के बाल गीत

सूरज  के कपड़े

                   कई दिनों से नंगा हूं माँ, 
                  बड़ी लाज अब मुझको आती।
                 सूरज अपनी माँ से बोला,
                  क्यों न कपड़े मुझे सिलाती।

                  पहिले तो छोटा था माँ मैं,
                  इतनी समझ नहीं थी मुझमें,
                 इस कारण से पड़ा नहीं था,
                 कपड़ों के लफड़ों झफड़ों में।

                 किंतु आजकल मित्र चिढ़ाते,            
                 मुझको बहुत सताते रहते,            
                 मुझे देखकर नंगा नंगा,
                 जोरों से चिल्लाते रहते।

                 इस कारण से वस्त्र जरूरी,
                हैं मां अब मुझको सिलवाना।
                नहीं सिले तो बंद करूंगा,    
                मैं अब घर से बाहर जाना।

               माँ बोली रे प्यारे बेटे,
                कैसी तू बातें करता है,।
                तुझको नंगा बोल सके यह ,
                किसमें दम किसमें क्षमता है।

               तू तो जनम जनम‌ से बेटा,
              ऐसे वस्त्र पहिनकर आया।    
               तेरे चमकीले कपड़ों ने,
              ही तो दुनियाँ को चमकाया।
          
               तुझे देखते ही दुनियाँ के,
               सबके सब नंगे डर जाते।
               भाग भाग कर किसी अँधेरे,
               कोने में जाकर छिप जाते।

               जो तुझको नंगा कहते हैं,
               पहिले अपना हृदय टटोलें,
               मन के नंगों को क्या हक है,
               किसी और को नंगा बोलें।
                       
               तन का नंगापन तो केवल,
               जरा देर‌ आंखों को चुभता।
               मन के नंगेपन से दुनियां
              धू धू जलती, विश्व झुलसता।

                  तन के नंगेपन पर बेटे,
                  व्यर्थ कभी न रोना धोना।
                 इतना ध्यान हमेशा रखना,
                मन‌ से नंगे कभी न होना।
 
---

image
 

बच्चा धर्म
            ससुराल नहीं जाऊंगी माँ,        
            मैं शाला पढ़ने जाऊंगी।
             हूं अभी बहुत ही छोटी सी,
           बस बच्चा धर्म निभाऊंगी।

             है उम्र अभी नन्हीं नन्हीं,
           मैं योग्य नहीं हूं शादी के।
             बचपन की शादी का मतलब,
           ये पग हैं सब बरबादी के।
           मैं सब से साफ साफ कह दूं,
          मैं दुल्हन नहीं बन पाऊंगी ।
            हूं अभी बहुत ही छोटी सी,
           बस बच्चा धर्म निभाऊंगी।


             छोटी आयु में शादी का,
          था चलन शहर और गावों में।
          मैं यह सब सुनती रहती हूं,
           माँ कविता और कथाओं में।
          यह रीत पुरानी बंद करो ,
          मैं यह न दुहरा पाऊंगी।
    हूं अभी बहुत ही छोटी सी,
           बस बच्चा धर्म निभाऊंगी।

               बचपन के नीले अबंर में,
               मुझको भी कुछ दिन उड़ने दो।
             मुझको अपने अरमानों की,
           सीढ़ी को चढ़ने गिनने दो।
           अब किसी तरह्  कॆ बंधन में ,
            मैं अभी नहीं बंध पाऊंगी। 
           हूं अभी बहुत ही छोटी सी,
           बस बच्चा धर्म निभाऊंगी।   

              अब मॆरे पर कतरे कोई,
           यह बात मुझे मंजूर नहीं।
             आने वाले दिन बिटियों के,
           ही होंगे वह दिन दूर नहीं।
            अपनी मंजिल अपनी राहें,
          मैं अपने हाथ बनाऊंगी। 
          हूं अभी बहुत ही छोटी सी,
           बस बच्चा धर्म निभाऊंगी।

        सीता बनने की क्षमता है,
            मैं सावित्री बन सकती हूं,
          वीर शिवाजी छत्रसाल से,
          महा पुरुष जन सकती हूं।
        पर उचित समय आने पर ही,
        तो मैं यह सब कर पाऊंगी।  
              हूं अभी बहुत ही छोटी सी,
           बस बच्चा धर्म निभाऊंगी।
            ---

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------