गुरुवार, 16 मई 2013

आशीष त्रिवेदी की लघुकथा - मातृ शक्ति

मातृ शक्ति 

आज राम नवमी का दिन था। श्रीमती शर्मा अपने पति के साथ देवी के दर्शन करने आयीं थीं। इस मंदिर की प्रसिद्धि दूर दूर तक थी। पहले तो वो हर महीने ही यहाँ आती थीं किन्तु नौकरी में व्यस्तता बढ़ जाने  के कारण पिछले शारदीय नवरात्रि के बाद आज आ पायीं थीं।

मंदिर में बहुत भीड़ थी। दर्शन करने वाले भक्तों का ताँता लगा था। माँ के दर्शन करने के बाद वो अपने साथ लाये हुए पूरी और हलवे के पैकेट बाहर बैठे भिखारियों में बाटने लगीं। उनकी नज़रें इधर उधर भटक रही थीं। दरअसल वो गौरी को ढूंढ रही थीं।

गौरी चौदह पंद्रह साल की एक अनाथ लड़की थी। वो गूंगी थी। जब वह करीब छह वर्ष की होगी तब कोई उसे मंदिर में छोड़ गया था। पुजारी जी ने उसका नाम गौरी रख दिया। गौरी मंदिर की सीढ़ियों पर ही बैठती थी। आने वाले भक्त जो दे देते थे उसी से गुजारा कर लेती थी। श्रीमती शर्मा को उसकी जो बात सबसे अच्छी लगती थी वह थी उसकी वो प्यारी सी मुस्कान जो इतनी तकलीफों के बाद भी हमेशा उसके चहरे पर खिली रहती थी।

श्रीमती शर्मा उसे ढूंढ रही थीं ताकि वे उसे भी प्रसाद दे सकें। तलाशते तलाशते उनकी निगाह एक कोने पर पड़ी। वहां एक गठरी की तरह सिमटी हुई गौरी बैठी थी। उसका चेहरा मुरझाया हुआ था। बड़ी मुश्किल से वो खड़ी हुई और मटके की तरह आगे निकल आये पेट को हाथों से संभालते हुए धीरे धीरे सीढियां उतरने लगी।

श्रीमती शर्मा का दिल धक् से रह गया। पास बैठी फूल बेचने वाली बोली " न जाने कौन राक्षस इसके साथ मुंह काला कर इसे छोड़ गया।"

मंदिर की घंटियाँ बज रही थीं। स्त्री शक्ति को माता के  रूप में पूजने वालों का आना जारी था।

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------