देवेन्द्र कुमार पाठक के दोहत्थड़-दोहे

देवेन्द्र कुमार पाठक के

दोहत्थड़-दोहे

~~~*~~~

पद-मद ने जब दी भुला, पद की हद-मरजाद;

बुद्धि निरंकुश हो गई, बना मनुज ज़ल्लाद.

~*~

पदलिप्सा मेँ भ्रष्ट हो, बढ़-चढ़ करेँ कुकृत्य;

महिमामंडित हो रहे, छल,अन्याय,असत्य.

~*~

दुधमुँह तन,मन,ज़ेहन के घर,देहरि,आँगन;

फिरेँ ख़ौफ़ के अज़दहे, पल-पल काढ़े फन.

~*~

घर ने कब कितना किया, लड़की पर विश्वास;

रहता काबिज़ हर घड़ी, शक़ का बदअहसास.

~*~

सदा बोझ समझा उसे, कहा पराया धन;

धरा-धर्म धारे रही, सहती उत्पीड़न.

~*~

वस्तुमात्र समझा किया तुमने कन्यादान;

उसके सपनोँ का रखा, कब-कब,कितना मान.

~*~

जनगीत

 

लोग अँखमुँद पछियाय रहे

~ ~ ~

जोड़-तोड़,गठजोड़;

मच गई वही पुरानीहोड़;

चुनावी खच्चर धाय रहे.

लोग अँखमुँद पछियाय रहे.

 

दिल्ली की दल-दली गंदगी

गाँवशहर तक बह कर आती,

बड़े-बड़ोँ के नीचपने की

कीच बजबजाती-गंधाती;

सत्ता साधन साध्य,

है जिनका सत्ता ही आराध्य;

कठकीड़े हैँ वे कुर्सी के,

लहू प्रजा का पी- पी के;

खूब मुटियाय रहे.

 

लोग अँखमुँद पछियाय रहे.

लोकतंत्र की फुलबगिया मेँ

ये ज़हरीले साँप पल रहे,

श्रम की पावन पुण्य धरा पर

पदलिप्सा के पाप पल रहे;

निरे काग़ज़ी शेर,

आँकड़ोँ के बल बने दिलेर;

मजदूरोँ का हर हिस्सा-हक,

ठलुए-कामचोर ये नाहक,

हड़प-हथियाय रहे.

लोग अँखमुँद पछियाय रहे.

< * * * >

0 टिप्पणी "देवेन्द्र कुमार पाठक के दोहत्थड़-दोहे"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.