शनिवार, 11 मई 2013

मातृ दिवस विशेष - दिलीप लोकरे की रचना : माँ

image

माँ 

धुल -धुँआ दीवारें काली याद अभी कुछ बाकी है 

चूल्हे पर फुंकनी का मीठा स्पर्श अभी कुछ बाकी है

 

गर्म लपट से झुलसा चेहरा तेज अभी कुछ बाकी है 

रोटी से आती धुंए की गंध अभी कुछ बाकी है

 

कैसे भूल सकूंगा उसको जिसने मुझको जन्म दिया

खूब कमाया फिर भी उसका ​​कर्ज़ अभी कुछ बाकी है

 

रात-रात भर जाग के जिसने मुझको ख़ूब सुलाया था 

जाग-जाग कर अब सोचूँ अहसास अभी कुछ बाकी है

 

ख़ूद भूखे रहकर भी जिसने मुझको ख़ूब खिलाया था 

हाथों के पोरों पर अब भी स्वाद वो थोड़ा बाकी है

 

आज हवा में उड़ लूं चाहे सड़कों पर कारों में चलूं

तेरी गोद में लेटूँ फिर से ख्वाइश ये कुछ बाकी है 

 

मुश्किल कैसी भी जीवन में हो कैसी भी कठिनाई 

तेरा आँचल होगा सर पर ये विश्वास भी बाकी है  

 

कोशिश चाहे लाख करूँ पर भूल कभी ना पाउँगा 

चहरे की झुर्रियों में कुछ इतिहास अभी भी बाकी है

 

संस्कारों ने तेरे मुझको लड़ना बहुत सिखाया है 

कुछ तो छूट गया पीछे पर आगे भी कुछ बाकी है

 

-दिलीप लोकरे

E-36, सुदामानगर, इंदौर-452009,म . प्र .

diliplokreindore@gmail.com

Mobile-9425082194 

11 blogger-facebook:

  1. बेहतरीन रचना..... माँ की सुंदर भावपूर्ण रचना !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज रविवार (12-05-2013) के चर्चा मंच 1242 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  3. मातृ-ऋण कब पूरा चुक पाया है आज तक-जहाँ भी ममता का स्पर्श मिलेगा माँ की स्मृति जाग जाएगी !

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच है प्रतिभा जी । उज्जैन के स्वर्गीय कवि ओम व्यास के शब्दों में
    माँ... चुल्हा-धुँआ-रोटी और हाथों का छाला है,
    माँ... ज़िंदगी की कड़वाहट में अमृत का प्याला है,
    माँ ...पृथ्वी है, जगत है, धूरी है,
    माँ ...बिना इस सृष्टि की कल्पना अधूरी है,
    या
    'माँ' है मेरे पास ..तो मुझे कोई 'गम' नहीं होता..
    उसके 'आँचल की छाँव' से 'प्यारा' कोई 'मौसम' नहीं होता ..
    मै अपने 'दुश्मनों ' के बीच भी 'महफूज' रहता हूँ ..
    मेरी 'माँ ' की दुआओं का 'असर' कभी 'कम' नहीं होता ..!

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------