रविवार, 12 मई 2013

देवेन्द्र कुमार पाठक के दोहत्थड़ दोहे और जनगीत

 

image

जनगीत

 

भूख का जलता मरुस्थल

~~~~~~~

रात रहते पहर भर महुहार जागे;

फूल महुआ के चुनते मेहनतकश अ-भागे.

तयशुदा हैँ इनमेँ भी हक भाग उनके;

पीढ़ियोँ से नाम पर महुआर जिनके;

और पहले ही लिए- खाए उधारी को पटाने,

भाव मनमाना बनिया शहर का माँगे.

शेष कट-पटकर भी लगेगा हाथ जो जितना;

भूख के मरुथल को नाप पाएगा वो कितना!

जब की तब सोचेँगे सुलझेँगे अभी तो

वह तँबाखू भर चिलम की तोप दागे.

=0=0=0=0=0=0=0=

 

दोहत्थड़-दोहे

 
~~~*~~~ 
पद-मद ने जब दी भुला, पद की हद-मरजाद; 
बुद्धि निरंकुश हो गई, बना मनुज ज़ल्लाद. 
~*~ 
पदलिप्सा मेँ भ्रष्ट हो, बढ़-चढ़ करेँ कुकृत्य; 
महिमामंडित हो रहे, छल,अन्याय,असत्य. 
~*~ 
दुधमुँह तन,मन,ज़ेहन के घर,देहरि,आँगन; 
फिरेँ ख़ौफ़ के अज़दहे, पल-पल काढ़े फन. 
~*~ 
घर ने कब कितना किया, लड़की पर विश्वास; 
रहता काबिज़ हर घड़ी, शक़ का बदअहसास. 
~*~ 
सदा बोझ समझा उसे, कहा पराया धन; 
धरा-धर्म धारे रही, सहती उत्पीड़न. 
~*~ 
वस्तुमात्र समझा किया तुमने कन्यादान; 
उसके सपनोँ का रखा, कब-कब,कितना मान. 
~*~ 

लेखक-परिचय                       < - - - - - - ->     देश के हृदयप्रदेश की मध्यभूमि महाकोशल (जिला-कटनी)के छोटी महानदी ग्राम्यांचल के एक गाँव के निम्नमध्यवर्गीय कृषक परिवार मेँ जन्मे संतावन वर्षीय कविता- कथा, व्यंग्य लेखक, समीक्षक एवं शिक्षक देवेन्द्र कुमार पाठक 'महरूम' तख़ल्लुस से ग़ज़ल कहते हैँ; आपके दो उपन्यास, ( 'विधर्मी' उपन्यास 'मध्यप्रदेश साहित्य परिषद' के 'दुष्यंत कुमार पुरस्कार' से सम्मानित) चार कहानी संग्रह, दो व्यंग्य संग्रह और एक गीत-नवगीत संग्रह 'दुनिया नहीँ अँधेरी होगी' प्रकाशित है. पत्र-पत्रिकाओँ मेँ ढाई दशक से कमोबेश हर विधा की रचनाएँ प्रकाशित,आकाशवाणी-दूरदर्शन से प्रसारित.  संप्रति-अध्यापन.             संपर्क- फेज-1,प्लाट-7; साँईपुरम् कालोनी, रोशनगर;रफी अहमद किदवई वार्ड, खिरहनी;    मुख्य डाकघर-कटनी,जिला-कटनी. 483501. म. प्र.     Email- pathakdevendra24@gmail.com     

2 blogger-facebook:

  1. देवेन्द्र जी , बहुत बेह्तरीन दोहे हैं , वाह वा !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सर्वोत्त्कृष्ट, अत्युत्तम रचना
    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र कुछ नया और रोचक पढने और जानने की इच्‍छा है तो इसे एक बार अवश्‍य देखें,
    लेख पसंद आने पर टिप्‍प्‍णी द्वारा अपनी बहुमूल्‍य राय से अवगत करायें, अनुसरण कर सहयोग भी प्रदान करें
    MY BIG GUIDE

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------