शनिवार, 1 जून 2013

सुशील यादव का व्यंग्य - कद नापने के तरीके

कद नापने के तरीके

उसे इंची टेप के साथ लोग हमेशा देखते रहे। पहले वो बढ़ाई-गिरी याने कारपेंटरी का काम किया करता था।

‘गिरी’ आजकल का फैशन नुमा शब्द है, जो अचानक ‘बापू’ के नाम के साथ फिल्मी तरीके से जुड़ गया है।

“कुछ चुपचाप से करो मगर,हल्ला ज्यादा मचे”, वही‘गांधी-गिरी’ के नाम से चल निकला है, इन दिनों।

‘बापू’ कभी सपने में नहीं सोचे होगे कि वो इक्कीसवीं सदी में सादा-‘गिरी’में अव्वल जाने जायेंगे।

‘सादागिरी’ और ‘दादागिरी’ के मिसाल के तौर पर मोहल्ले में दो लोग फेमस हैं। एक तो अच्छन मियां , जो जैसा पहले बताया कि, बढाई हुआ करते थे ,बाद में मेहनत ज्यादा, आमदनी कम देख दर्जीगिरी अपना बैठे, इंची टेप से मुहब्बत जो ठहरी ,साथ नहीं छोड़ पाए।

उनका कहना था,आजकल के लडके नए-नए फैशन के कपड़े सिलवाते रहते हैं, सो काम बारों-महीने मिलता है। धंधा खूब चल जाता है ,उनके गले में ‘इंची-टेप’ टाई-बतौर लटकी रहती ,हरदम।

अच्छन मिया धंधे के सख्त पाबन्द ,सिलाई मशीन को सुबह आठ से रात आठ तक आराम ही नहीं करने देते। उनके कारिंदे, उन्हें ‘दुश्मनों की तबीयत खराबी’ का वास्ता देकर, इतनी मसरूफियत से बाज आने को कहते, मगर उनको काम में किसी का दखल जायज नहीं लगता।

अच्छन –मिया के शेरवानी या सूट पहने बिना कोई भी निकाह या शादी फीकी सी लगती।

धंधे के उसूल के मुताबिक जिसे जिस वक्त का वादा किए होते. उनको उसी मुहूर्त में वे कपडे थमा देते।

अपनी तरफ से उस दिन पूरी कोशिश के बावजूद अच्छन –मिया मोहल्ले के सबसे बड़े टपोरी का काम नहीं दे पाए। ’टपोरी-भाई’ को दोस्त की शादी में शेरवानी पहन के जाना था। चेताया था कि टाइम पे काम होने का। मगर चूक हो गई। कारीगर बीमार हो गए। काम नहीं हुआ। अच्छन-मिया का कालर पकड़ लिया गया।

दादा-गिरी. जो उस दिन अच्छन –मिया ने देखी, उसी दिन से गले से टेप उतार के रख दी। लोगों ने लाख समझाया मगर टस के मस नहीं हुए। वे घुलते रहे।

टपोरी की ‘दादागिरी’ के काट ढूंढने में उन्होंने मानो रिसर्च ही कर डाला।

एक ही उसूल पर थे, कि ‘कालर का बदला कालर’।

उनसे सूट-शेरवानी की लोग मिन्नत करते मगर वे दूकान पर कभी फटके ही नहीं। कारिन्दों और बच्चों के हवाले दूकान कर वे मुड़ कर नहीं देखे।

अच्छन–मिया ने टपोरी के ‘टपोरी-गिरी’ पर ‘अन्ना-गिरी’ की नजर रखना चालू कर दिया।

उसके कारनामों का सुराग लगाने में ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ी। कुछ तो जग-जाहिर थे मसलन किस नजूल जमीन को घेर रखा है,किस ठेके वाले के लिए काम करता है। किस साहब को जुए का हप्ता पहुंचाता है वगैरा –वगैरा। कुछ कारनामे छिपे हुए थे ,फिरौती का काम बड़े बाश-नुमा लोगों के कहने पर कर चुका था।

अच्छन-मिया छुप-छुप के अर्जी देने लगे। सुराग यूँ पुख्ता देते कि साहबानों को ‘नहीं’ की गुंजाइश नहीं होती। टपोरी के होश फाख्ता होते रहे।

टपोरी हिल सा गया।

मोहल्ले-पड़ोस में खामुशी सी छा जाती जब टपोरी दहाड़ कर जाता कि, देख लेंगे जिस माई के औलाद ने उनको छेड़ा है।

टपोरी की नींद पुलिस वालो ने उस दिन हराम कर दी जब पूरे मोहल्ले वालों ने उस पर बहु –बेटियों के मुहल्ले में अश्लील गालियाँ देने और लोगों को जान से मारने-धमकाने का इल्जाम लगा के, धरना दे डाला।

वो लोगों के सामने खूब पिटा। पुलिस टपोरी को कालर पकड के खींचते ले गई।

अच्छन–मिया घर के अंदर घुसे,किसी खूंटी पर टंगे ‘इंची-टेप’ को बहुत दिनों बाद बहुत सादगी के साथ बाहर निकाल गले से टाई नुमा फिर बाँध लिए।

उन्हें लगा वे टपोरी का ‘कद’ ‘सर से पांव तक’ नाप चुके हैं।

--

सुशील यादव ,

वड़ोदरा(गुजरात)

मोबाईल;09426764552

४.४.१३.

2 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------