शनिवार, 29 जून 2013

बच्चन पाठक 'सलिल' की लघुकथा - धर्म की परिभाषा

धर्म की परिभाषा 

--------------------

                   -- डॉ बच्चन पाठक 'सलिल'

सन 1964 ईस्वी में जमशेदपुर में सांप्रदायिक दंगा हुआ । लोग हिंसा , आक्रोश, भय और संदेह के साये में पल रहे थे । सैकड़ों लोगों की जानें गईं । रात में पूरी तरह कर्फ्यू लागू थे । बिष्टुपुर के एक मंदिर में पंडित रामानंद जी पुजारी थे । वे सत्यवादी और पक्के सनातनी थे । मंदिर में बीसों कच्चे घर थे जिनमे किरायेदार रहते थे । मंदिर कमेटी की ओर से पंडित जी ही कमरे आवंटित करते थे और किराया वसूलते थे । 

एक दिन उनके गाँव का रहमान नाम का एक मुसलमान आया । वह शास्त्रीनगर से भाग कर आया था जहाँ दर्जनों हत्याएं हो चुकी थी । 

उसने पंडित जी से पनाह मांगी । पंडित जी ने उसे एक कमरा दे दिया और कहा कि अपना नाम रघुवर बताना । असली नाम बताओगे तो बवाल खड़ा हो जायेगा । 

दो दिनों के बाद किसी तरह भेद खुल गया कि वह मुसलमान है । रात को करीब एक दस बजे कुछ लोग आए और बोले कि यहाँ एक मुसलमान छिपा है । हम उसे मैदान में ले जाकर काट डालेंगे । 

पंडित जी घबराए । बोले-- यहाँ सभी पुराने लोग हैं । एक रघुवर आया है, वह नया है पर मैं उसे जानता हूँ ।  

रघुवर बुलाया गया । वह थर- थर कांप रहा था । पंडित जी ने कहा-- यह रघुवर है और यादव है । मैं इसे जानता हूँ । एक यादव पहलवान ने कहा-- अगर पंडित जी इसका छुआ पानी पी लेंगे तो हम लोग मान जायेंगे । 

पंडित जी धर्म-संकट में पड़े । उन्हें मानस की याद आई -- पर हित सरिस धर्म नहि भाई । उन्होंने रघुवर के हाथ का पानी पी लिया । लोग चले गए । 

दो चार दिनों के बाद दंगा शांत हुआ । पंडित जी आश्वस्त थे कि मैंने धर्म का सही पालन किया है । जीव-रक्षा रुढी पालन से अधिक महत्वपूर्ण होता है । 


पता -- बाबा अश्रम, पंच मुखी हनुमान मंदिर के पास

         आदित्यपुर-२ , जमशेदपुर-१३

फोन- ०६५७ / २३७०८९२

1 blogger-facebook:

  1. सुन्दर बहुत खूब सही कहा मानवता hi धर्म हर इस तरह की कुछ और रचना पड़ने को मिले तो हिन्दू -मुस्लिम दंगे हो hi नही सकते

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------